कैसी है फरहान की फिल्म 'रॉक ऑन-2', पढ़ें- रिव्यू

शिखा धारीवाल | News18India.com
Updated: November 11, 2016, 1:03 PM IST
शिखा धारीवाल | News18India.com
Updated: November 11, 2016, 1:03 PM IST
मुंबई। एक लड़का है जिसे संगीतकार बनना है। रिएलिटी शोज़ के इस जमाने में वो फरहान अख्तर को अपना संगीत सुनाने की सारी कोशिशें करता है, लेकिन फरहान जो एक कामयाब बैंड के लीड हैं उस लड़के को भाव नहीं देते हैं, एक दिन अचानक फरहान उसका गाना सुनते हैं जो उन्हें पसंद भी आता है मगर तभी उस लड़के की आत्महत्या की खबर भी आती है। तब खुद को कसूरवार मानकर फरहान समाजसेवा के लिए मेघालय के एक गांव चले जाते हैं।

एक दिन गांव में आग लग जाती है और फरहान द्वारा खोला स्कूल, बैंक सब  जलकर राख हो जाता है। डिप्रेशन में घिरे फरहान की मुलाकात श्रद्धा कपूर से होती है जो उसे बचाती भी है। तभी एक दिन पता चलता है श्रद्धा उसी राहुल की बहन है, जिसने आत्महत्या कर ली थी।

इसी बीच फरहान अपनी पत्नी से भी अलग हो जाते हैं। आखिर में फरहान गांववालों की हालत सुधारने वापस लौटते हैं। एयरपोर्ट पर उनकी मुलाकात श्रद्धा से हो जाती है गांव की हालत सुधारने के लिए सारे दोस्त मिलकर एक बड़ा म्यूजिक कंसर्ट करते है।  इस कामयाब कंसर्ट के बाद श्रद्धा कपूर सिंगर बन जाती हैं।

बूढ़ी हो गई है रॉक ऑन

कुल मिलाकर 'रॉक ऑन 2' एक घिसी पिटी और ऐसी कहानी है जिसके हर मोड़ का अंदाजा आप लगा सकते हैं। फरहान और श्रद्धा अच्छे कलाकार हैं मगर खुद फरहान, अर्जुन रामपाल और पूरब कोहली के साथ रॉक ऑन अब बूढ़ी हो गई है। BTDD फिल्म रिव्यू में फिल्म अच्छाइयों और कमियों का हिसाब लगाने के बाद रॉक ऑन-2 को पांच में महज़ 2 स्टार्स मिलते हैं। मेघालय का दृष्यांकन अच्छा है मगर संगीत में वो बात नहीं, फिल्म की पटकथा एक बुरी कहानी का शिकार हुई है।

rock3

अच्छा है आपकी जेब में कम पैसा है

बाज़ार में नए नोट या कहें कि कैश की किल्लत से आप परेशान हैं। मगर वो कहते हैं ना जो होता है अच्छे के लिए होता है, तो अगर आज आपके पास नए नोट नहीं हैं तो आप भाग्यशाली हैं। आपका समय और पैसा दोनों बच गया है और वैसे भी ये फिल्म तो महीनेभर बाद किसी मूवी चैनल पर आ ही जाएगी।
First published: November 11, 2016
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर