रवीना की 'मातृ' के बाद अब सोनाक्षी की 'नूर' पर है सेंसर बोर्ड को एतराज़

News18Hindi
Updated: April 19, 2017, 2:20 PM IST
रवीना की 'मातृ' के बाद अब सोनाक्षी की 'नूर' पर है सेंसर बोर्ड को एतराज़
रवीना की 'मातृ' की बाद अब सोनाक्षी की 'नूर' पर है सेंसर बोर्ड को एतराज
News18Hindi
Updated: April 19, 2017, 2:20 PM IST
रवीना टंडन की फ़िल्म मातृ पर रोक लगाने के बाद सेंसर बोर्ड की भौंहे अब सोनाक्षी सिन्हा की फ़िल्म 'नूर' पर टेढ़ी हो गई हैं.

सेंसर बोर्ड ने फ़िल्म 'नूर' में 'दलित' और 'सेक्सी टॉय' जैसे शब्दों पर सख्त एतराज़ जताते हुए साफ़ कहा है कि इस शब्दों को फ़िल्म से हटा दें.

वहीं फ़िल्म मेकर्स ने सेंसर बोर्ड की आपत्ती के बाद फ़िल्म 'नूर' से जहां भी दलित और सेक्सी टॉय शब्द का प्रयोग हुआ है उसपर बीप लगाने फैसला किया है.

आजकल ट्रेंड सा बन गया है कि सेंसर बोर्ड को लगभग हर फ़िल्म में कुछ न कुछ आपत्तिजनक लगने ही लगा है.

हाल ही में रवीना टंडन की फ़िल्म 'मातृ' के साथ भी ऐसा ही हुआ था.

सेंसर बोर्ड ने 'मातृ' के उपर रिलीज से पहले ये कह कर रोक लगाई कि फ़िल्म में रवीना के रेप सीन को ठीक से नहीं फ़िल्माया गया है.

सेंसर बोर्ड के इस तर्क के बाद सीबीएफ़सी पर सवाल उठने लगें हैं कि जिन नियमों के तहत सेंसर बोर्ड ऐसे फै़सले लेता है, तो सालों से चले आ रहे इन पुराने नियमों में बदलाव क्यों नहीं होना चाहिए.

इस बाबत रवीना ने कहा ''सीबीएफ़सी ऐसे नियमों में बंधा हुआ है जो कई साल पहले बनाए गए थे. अब वक्त आ गया है कि हम प्रोग्रेसिव भारत के बारे में बात करें. इसलिए नियमों में बदलाव की जरूरत है''

दरअसल रवीना का तर्क है कि उनकी फ़िल्म में ऐसा संदेश है जिसे लोगों तक पहुंचना ही चाहिए.

रवीना ने कहा, "मैं ऐसी कई फ़िल्में गिना सकती हूं जिनमें कॉमेडी के लिए अश्लीलता का इस्तेमाल किया गया पर उन पर कोई आपत्ति नहीं हुई और मेरी फ़िल्म को जब आप A सर्टिफ़िकेट दे रहें हैं, तो  फ़िल्म देखना है या नहीं ये फैसला  दर्शकों पर ही छोड़ दें''.

अपको बता दें कि फ़िल्म मातृ 21 मई को रिलीज होने वाली थी पर सेंसर बोर्ड की आपत्ती के बाद इस फ़िल्म पर फ़िलहाल रोक लग गई है.
First published: April 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर