फिल्म समीक्षा: खूब हंसाती है ‘सिल्वर लिनिंग्स प्लेबुक’

राजीव मसंद

Updated: February 23, 2013, 10:14 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

मुंबई। अमेरिकन रोमांटिक कॉमेडी ड्रामा ‘सिल्वर लिनिंग्स प्लेबुक’ दिमागी बीमारी से जूझ रहे किरदारों के साथ बनी उन चंद फिल्मों में से है जो अनोखी भी है, उदास भी है, फनी भी है और चार्मिंग भी। डायरेक्टर डेविड रसेल कुछ सीरियस थीम को ऐसे मजाक और हंसी के साथ ट्रीट करते हैं कि अंत में आप खुद को एक्साइटमेंट से भरा पाएंगे।

ब्रेडले कूपर पट के किरदार में हैं जो बाइपोलर डिसऑर्डर से ग्रस्त है और जिसे अपनी बीवी के प्रेमी को बुरी तरह से पीटने के कारण 8 महीने मेंटल इंस्ट्रक्शन में बिताने पड़े। अब वो अपने माता पिता के साथ घर वापस आया है। पट के पिता रॉबर्ट दी नीरो अपने बेटे की सेहत की लिए चिंतित हैं, पर अपनी गैंबलिंग की आदत की वजह से वो उन्हें खुद ही शायद मदद की जरूरत है।

वहीं पट की मां यानी जक्की वीवर दोनों के साथ सब्र के साथ पेश आती हैं और हमेशा ही घर में साथ ही साथ कुछ खास पकवान बना कर घर में शांति का माहौल बनाए रखने की कोशिश करती हैं। अपनी ज़िंदगी और ख़ास तौर पर अपनी शादी को वापस ट्रैक पर लाने की और काम करते हुए पट की मुलाकात होती है अपनी ही जैसे परेशान टिफ़नी यानि जेनिफर लॉरेंस से जो एक यंग विडो है। वो अपने डिप्रेशन से जूझने के लिए कई मर्दों के साथ जिस्मानी सम्बन्ध रखती है।

ये पागलों की जोड़ी एक दूसरे की इन्सल्ट करती है और बस ऐसे ही फ़ौरन इनके बीच एक अजीब सा कनेक्शन हो जाता है। रुस्सेल्ल की स्क्रिप्ट ओरिजिनल भी है और अप्रत्याशित भी है। अपनी फिल्म के लाजवाब कास्ट को "रियल"किरदार देती है जिसमें वो पूरी तरह से समा जाए। यहां तक कि जब फिल्म अपने सेकेंड हाफ में कन्वेंशनल रोम कॉम में प्रवेश करती है, तब भी इसके किरदार और इसके संवाद काफी रियल लगते हैं।

रॉबर्ट दी नीरो पट अपने किरदार में शानदार लगते हैं वहीँ जक्की वीवर भी खूब जंचती हैं। यहां तक कि इसके सपोर्टिंग किरदार में अनुपम खेर भी शामिल हैं, हर एक नोट सही पकड़ते हैं। पर जाहिर तौर पर फिल्म इसके मेन लीड पर निर्भर करती है। कूपर हमेशा ही स्क्रीन पर अपनी छाप छोड़ते हैं, खास कर इस बार अपने मजेदार अभिनय के साथ, जिसमें थोडा दर्द भी है।

महज़ 22 साल की जेनिफर लॉरेंस काम्प्लेक्स, अक्खड़ और गाली गलौच करते हुई फिर भी एक वल्नरेबल हीरोइन के तौर पर स्क्रीन पर भेद अच्छी लगती हैं। एक साथ ये दोनों किसी बिजली के तार जैसे हैं और इन्हें साथ देखना फिल्म की सबसे मज़ेदार बात है। मैं ‘सिल्वर लिनिंग्स प्लेबुक’ को पांच में से चार स्टार देता हूं और सलाह देता हूं कि इसे बिलकुल भी मिस मत करिएगा। आप हंसते हुए बाहर आएंगे।

First published: February 23, 2013
facebook Twitter google skype whatsapp