चुइंग गम खाते हैं तो हो जाएं सावधान, भुगतने पड़ सकते हैं गंभीर परिणाम

आईएएनएस
Updated: February 21, 2017, 9:12 AM IST
चुइंग गम खाते हैं तो हो जाएं सावधान, भुगतने पड़ सकते हैं गंभीर परिणाम
Demo Pic
आईएएनएस
Updated: February 21, 2017, 9:12 AM IST
लोग खासतौर पर आजकल के नवयुवक अक्सर आपको चुइंगम खाते हुए दिख जाएंगे. ज्यादातर लोग इसे माउथ फ्रेशनर के तौर पर खाते हैं.

कुछ पुरुष सिगरेट पीने के बाद भी इसे चबाते हुए नजर आ सकते हैं, इस बात से बेखबर की ये हमारे स्वास्थय के लिए कितना नुकसानदेह है. क्या आप भी इससे होने वाले नुकसान के बारे  जानते हैं? नहीं जानते तो आइए हम बताते हैं.

चुइंगम से लेकर ब्रेड तक में डाले जाने वाले पदार्थो से छोटी आंत की कोशिकाओं के पोषक पदार्थो के शोषित करने की क्षमता और रोगाणुओं को रोकने की क्षमता में कमी आ सकती है.

शोध के मुताबिक, टाइटेनियम डाईऑक्साइड यौगिक का अंतर्ग्रहण करीब टाला नहीं जा सकता. यह हमारे पाचन तंत्र में टूथपेस्ट के जरिए पहुंच सकता है, जिसमें टाइटेनियम डाईऑक्साइड सफाई के लिए इस्तेमाल किया जाता है. ऑक्साइड का इस्तेमाल कुछ चॉकलेटों में चिकनाहट लाने के लिए भी किया जाता है.

न्यूयॉर्क के बिंघमटन विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर ग्रेतचेन महलेर ने कहा, 'टाइटेनियम ऑक्साइड एक आम खाद्य संरक्षक है और लोग इसे एक लंबे समय से अधिक मात्रा में खाते आ रहे हैं, चिंता मत कीजिए यह आपको मारेगा नहीं, लेकिन हम इसके दूसरे सूक्ष्म प्रभावों में रुचि रखते हैं और समझते हैं कि लोगों को इस बारे में जानना चाहिए.'

शोधकर्ताओं ने कोशिका कल्चर मॉडल के जरिए छोटी आंत का अध्ययन किया.चुइंगम की थोड़ी मात्रा ज्यादा प्रभाव नहीं डालती, लेकिन दीर्घकालिक प्रयोग आंत की कोशिकाओं के अवशोषण के उभारों को कम कर सकती है. इन अवशोषण करने वाले उभारों को माइक्रोविलाई कहते हैं.

माइक्रोविलाई के कम होने से आंत की रोकने की क्षमता कमजोर होगी, उपापचय धीमा होगा और कुछ पोषक पदार्थ, जैसे- आयरन, जिंक और वसा अम्ल का अवशोषण काफी मुश्किल होगा.इस शोध का प्रकाशन पत्रिका 'नैनोइम्पैक्ट' में किया गया है.
First published: February 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर