मसूड़ों की बीमारी को नजरअंदाज न करें, आपके दिल को है खतरा...

आईएएनएस
Updated: February 20, 2017, 8:24 AM IST
मसूड़ों की बीमारी को नजरअंदाज न करें, आपके दिल को है खतरा...
मुंह में सफाई ना होने से हमारी पूरी सेहत पर असर पड़ सकता है और सामान्य स्वास्थ्य समस्याएं मुंह की सेहत पर असर डाल सकती हैं.
आईएएनएस
Updated: February 20, 2017, 8:24 AM IST
मुंह में सफाई ना होने से हमारी पूरी सेहत पर असर पड़ सकता है और सामान्य स्वास्थ्य समस्याएं मुंह की सेहत पर असर डाल सकती हैं. यहां तक कि मसूड़ों की लंबी बीमारी वाले मरीजों को दिल के रोगों का गंभीर खतरा रहता है. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा कि मुंह की सेहत और दिल के रोग आपस में जुड़े हुए हैं, क्योंकि शरीर के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में बैक्टीरिया खून के साथ फैल सकता है. हड्डियां बेकार हो सकती हैं और इंफेक्शन फैल सकता है.

उन्होंने कहा कि मुंह का इंफेक्शन एंडोकारडिटिस के कारण भी बन सकता है. दिल के रोगों का एंडोकारडिटिस के गंभीर खतरे से संबंध काफी हद तक जुड़ा होता है. इसके लिए डेंटल प्रोसीजर के साथ प्रोफिलेक्सिस करने की सलाह दी जाती है, जिसमें प्रोस्थैटिक कार्डियक वॉल्व, पहले के इंफेक्शन एंडोकारडिटिस, कार्डियक ट्रांसप्लांटेशन, कोंजिनिटल हार्ट डिजीज, अनरिपेयर्ड सीएचडी, प्रोस्थेटिक मटीरियल या उपकरण से पूरी तरह रिपेयर किया गया कोन्जिनिटल हार्ट डिफैक्ट, जिसे सर्जरी के समय लगाया गया हो या कैथेटर इंटरवेनशन के जरिए और सीएचडी, जिसे रेसिडयूल डिफेक्ट जिसे प्रोस्थैटिक पैच या प्रोस्थैटिक डिवाइस के आसपास या उसकी साइट पर रिपेयर किया गया हो शामिल हैं.

डॉ. अग्रवाल कहते हैं कि जिन बच्चों को यह समस्या है, उन्हें डेंटल ट्रीटमेंट से पहले प्रोफिलेक्सिस एंटीबायटिक दी जानी चाहिए. जिंजीविट्सि या एडवांस पेरीयोडोंटल रोग जैसे मसूड़ों की लंबी बीमारी वाले मरीजों को दिल के रोगों का गंभीर खतरा रहता है. खासकर तब जब इन रोगों की जांच नहीं कराई जाती और इलाज नहीं होता.

उन्होंने कहा कि मसूंड़ों के इंफेक्शन के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया खून में शामिल हो जाते हैं, जहां ये खून वेसेल से जुड़ जाते हैं और दिल के रोग होने का खतरा बढ़ा देते हैं. अगर आपके मसूड़ों में सूजन नजर न भी आए फिर भी अनुचित दांतों, मुंह की सफाई और जमा मैल आपको मसूड़ों के रोग के खतरे में डाल सकती है.
First published: February 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर