प्राइवेट लैब्स की मनमानी पर कसी नकेल, डेंगू-मलेरिया टेस्ट के रेट फिक्स

Kavita Bishnoi | ETV Haryana/HP
Updated: July 16, 2017, 6:49 PM IST
प्राइवेट लैब्स की मनमानी पर कसी नकेल, डेंगू-मलेरिया टेस्ट के रेट फिक्स
सांकेतिक तस्वीर
Kavita Bishnoi | ETV Haryana/HP
Updated: July 16, 2017, 6:49 PM IST
डेंगू, मलेरिया और अन्य बीमारियों से पीड़ित मरीजों से निजी लैब संचालक टेस्ट के मनमाने रेट नहीं वसूलें इसके निर्देश स्वास्थ्य विभाग ने पहले ही दे दिए थे. वहीं अब प्लेटलेट्स टेस्ट के दाम भी फिक्स कर दिए गए हैं.

पहले जहां रैंडम डोनर प्लेटलेट्स जो कि प्राइवेट अस्पताल से पहले लिए जाते थे, उसके लिए प्राइवेट अस्पताल 2 हजार तक चार्ज करते थे. वहीं सिंगल डोनर प्लेटलेट्स जिसमें उसी वक्त मरीज को किसी दूसरे से प्लेटलेट्स लेकर चढ़ाए जाते हैं उसके लिए 20 हजार रुपए तक वसूले जाते थे. लेकिन अब स्वास्थ्य विभाग की तरफ से नकेल कसते हुए इनके दाम फिक्स कर दिए गए हैं.

सिंगल डोनर के लिए जहां 11 हजार रुपए फिक्स किए गए हैं. वहीं रैंडम डोनर के लिए 4 सौ रुपए फिक्स कर दिए गए हैं.

'प्लेटलेट्स कम होना मौत की निशानी नहीं'

गुरुग्राम के सीएमओ बी.के. राजौरा ने बताया कि प्रदेश के सभी सिविल सर्जन को निर्देश दिए गए हैं कि वह टेस्ट की रेट लिस्ट बनाकर उसे बोर्ड के माध्यम से सार्वजनिक करें, ताकि अंजान लोग ठगी का शिकार होने से बच सकें. वहीं अगर कोई प्राइवेट अस्पताल इससे ज्यादा चार्ज करता है तो उसके खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी.

गौरतलब है कि बीते साल डेंगू-मलेरिया और अन्य टेस्टों के मनमाने दाम वसूलने की शिकायतों को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने यह कदम उठाया है. उच्चाधिकारियों के आदेश पर सिविल सर्जन कार्यालय की तरफ से कार्ड टेस्ट, प्लेटलेट्स टेस्ट और अन्य टेस्टों की रेट लिस्ट बनाई गई और रेट फिक्स किए गए हैं.

बुखार के बाद डेंगू के मामले भी सामने आने से बुखार पीड़ितों में डेंगू का डर बढ़ जाता है. ऐसे में पैथोलॉजी लैब पर डेंगू और प्लेटलेट्स काउंट की जांच कराने वालों की संख्या भी बढ़ जाती है. अनावश्यक रूप से भय का माहौल बनाते हुए डेंगू और प्लेटलेट्स जांच के लिए उकसाया जा रहा है. ऐसे में रेट फिक्स होने पर कुछ हद तक नकेल कसी जा सकेगी.
First published: July 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर