भाजपा एसटी मोर्चा ने अपने ही पार्षदों के खिलाफ खोला मोर्चा

News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 3:26 PM IST
भाजपा एसटी मोर्चा ने अपने ही पार्षदों के खिलाफ खोला मोर्चा
भाजपा एसटी मोर्चा के पदाधिकारी.
News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 3:26 PM IST
धर्मशाला में भाजपा एसटी मोर्चा ने अपने ही पार्षदों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.एसटी मोर्चा जिलाध्यक्ष रमेश जरियाल ने कहा कि जो नगर निगम के भाजपा पार्षद किशन कपूर का विरोध कर रहे हैं.

उन्होंने चुनाव तो भाजपा के नाम पर जीता था, लेकिन अब कांग्रेस एजेंट के रूप में कार्य कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि जो पार्षद एसटी वर्ग से चुनाव जीतने के बावजूद अपने वर्ग के हितों का संरक्षण नहीं कर पाए, वह पार्टी का हित क्या देखेंगे?

उन्होंने कहा कि एसटी पार्षदों की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में है? क्योंकि कहने को तो वे भाजपा के कार्यकर्ता हैं, लेकिन भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के आगमन पर स्वागत समारोह में जाने के बजाय वह कांग्रेस की निजी संस्था सहित स्थानीय विधायक और शहरी विकास मंत्री के कार्यक्रमों में जाना पसंद करते हैं.

जरियाल ने कहा कि भाजपा में रहकर कांग्रेस के कार्यक्रमों में उपस्थिति दर्ज करवाने वाले कार्यकर्ता कभी पार्टी के हितैषी नहीं हो सकते.

सोमवार को धर्मशाला में रमेश जरियाल ने कहा कि एसटी वर्ग नगर निगम में चुने गए दो पार्षद अपने वर्ग के हितों के नाम पर चुप्पी साधे हुए हैं.

जरियाल ने किशन कपूर का विरोध करने वाले पार्षदों 5 सवाल पूछे हैं. जरियाल ने कहा कि धर्मशाला में एसटी वर्ग के दो युवकों की हत्या की गई, उस पर पार्षद क्यों कुछ नहीं बोले?

नगर निगम धर्मशाला में भ्रष्टाचार हो रहा है. आउटसोर्स के नाम पर बैजनाथ के ठेकेदारों को काम देकर चहेतों को लाभ पहुंचाया जा रहा है. उसका एसटी पार्षदों ने विरोध क्यों नहीं किया? धर्मशाला नगर निगम में केंद के पैसे से लगाए जा रहे डस्टबिन स्थापना कार्य में हुए घोटाले पर एसटी पार्षदों ने अपना मुंह क्यों नहीं खोला? एलईडी और हाई मास्टलाइटों के नाम पर जनता को गुमराह किया गया, लेकिन पार्षद मौन रहे.

यही नहीं, स्काई बस को लेकर जो ढाई करोड़ का एमओयू हस्ताक्षरित हुआ है, उसमें भी बड़ा घोटाला हुआ है, लेकिन एसटी पार्षदों को यह सब दिखाई नहीं देता? जरियाल ने कहा कि पार्षदों ने पूर्व मंत्री किशन कपूर के खिलाफ बयानबाजी करके पार्टी को नुकसान पहुंचाने का काम किया है, जिसे सहन नहीं किया जाएगा.
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर