यहां ओवरब्रिज नहीं बनने के चलते 15 किमी. ज्यादा दूरी तय करनी पड़ रही है

swarn Rana | ETV Haryana/HP
Updated: July 18, 2017, 9:35 AM IST
यहां ओवरब्रिज नहीं बनने के चलते 15 किमी. ज्यादा दूरी तय करनी पड़ रही है
इस रेलवे ट्रैक पर ओवरब्रिज बनाने की मांग कर रहे
swarn Rana | ETV Haryana/HP
Updated: July 18, 2017, 9:35 AM IST
हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा के फतेहपुर विधानसभा के अंतर्गत राजा का तालाब क्षेत्र के लोग कई वर्षों से परेशान हैं. इनकी परेशानी की वजह गुरियाल पंचायत में रेलवे ओवब्रिज का नहीं बनना है.

इस रेलवे फाटक की दूसरी ओर कई पंचायतें आबाद हैं, लेकिन इस रेलवे ट्रैक पर ओवरब्रिज ना होने के कारण लोगों को बड़ी गाड़ियां ले जाने के लिए 10-15 किलोमीटर का अतिरिक्त सफर तय कर अपने गंतव्य तक पहुंचना पड़ता है.

इससे गांववासियों का समय के साथ-साथ पैसे की भी बर्बादी होती है. लोगों का कहना है कि जब भी विधानसभा चुनाव आते हैं तब नेता लोग ओवरब्रिज बनाने का दावा करके चले जाते हैं. चुनाव के बाद सब अपना वादा भूल जाते हैं.

गांववासियों का कहना है कि मुख्यमंत्री वीरभद्र ने भी चुनावों के समय इस रेलवे ट्रैक पर ओवरब्रिज या गेटमैन की तैनाती के साथ फाटक लगाने का वादा किया था, लेकिन सत्ता में आने के बाद वे यह सबकुछ भूल गए हैं.

स्थानीय गांववासियों की मानें तो जहां हजारों की संख्या में रहने वाली आबादी इस फाटक से प्रभावित है. यहां एक 'कोटे वाली माता' का बहुत ही प्रसिद्ध ऐतिहासिक मंदिर है, जिसमें सैंकड़ों की संख्या में लोग मां के दर्शन करने आते हैं. उन श्रद्धालुओं को भी कई किमी. पीछे वाहन खड़े कर पैदल यात्रा करनी पड़ती है.

स्थानीय पंचायत के पूर्व उपप्रधान बलवंत सिंह का कहना है कि इस रेलवे फाटक को खुलवाने के लिए उन्होंने गांववासियों के साथ इस रेलवे ट्रैक पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया था. उन्होंने बताया कि इस प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने उनके साथ चालीस लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किये गये. बलवंत सिंह ने बताया कि हमारे खिलाफ यह मामला अदालत में बीते 15 सालों से चल रहा है.
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर