फार्मा डिस्ट्रीब्यूटर जीएसटी को लेकर कंपनियों के रवैये से नाखुश

Virender Bhardwaj | ETV Haryana/HP
Updated: July 17, 2017, 7:44 PM IST
फार्मा डिस्ट्रीब्यूटर जीएसटी को लेकर कंपनियों के रवैये से नाखुश
प्रमोद महाजन,अध्यक्ष, फार्मा डिस्ट्रीब्यूटर एसोसिएशन
Virender Bhardwaj | ETV Haryana/HP
Updated: July 17, 2017, 7:44 PM IST
हिमाचल प्रदेश में दवाइयों के डिस्ट्रीब्यूटर जीएसटी के लागू होने के बाद अपने पास मौजूद स्टॉक को लेकर अभी तक असमंजस की स्थिति में हैं. प्रदेश के अधिकतर डिस्ट्रीब्यूटर एकजुट हो गए हैं और उन्होंने एसोसिएशन का गठन करके दवा कंपनियों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

मंडी में एसोसिएशन का गठन करके प्रमोद महाजन को अध्यक्ष पद का दायित्व सौंपा गया है. फार्मा डिस्ट्रीब्यूटर एसोसिएशन का कहना है कि पहले दवाईयों पर 5 प्रतिशत टैक्स लगता था लेकिन जीएसटी के बाद यह बढ़कर 12 प्रतिशत हो गया है. 30 जून तक इनके पास दवाइयों का जो स्टॉक मौजूद था उसे लेकर कंपनियों ने अभी तक अपनी स्थिति स्पष्ट नहीं की है.

एसोसिएशन के प्रधान प्रमोद महाजन के अनुसार दवा कंपनियों ने पहले जीएसटी लागू होने के बाद 7 प्रतिशत अतिरिक्त टैक्स को अदा करने संबंधी पत्र जारी किया, लेकिन बाद में कंपनियों ने इसमें आनाकानी करते हुए दो या फिर तीन प्रतिशत तक देने की बात कही है.

प्रमोद महाजन ने बताया कि डिस्ट्रीब्यूटर्स के पास जितना भी स्टॉक पड़ा है, कंपनी उसे अपने स्तर पर फिजिकली वैरीफाई करे. ऐसा करने के बाद कंपनी बचे हुए स्टॉक पर टैक्स पर राहत दे अन्यथा इन्हें कोई आगामी रणनीति बनाने के लिए मजबूर होना पड़ेगा.
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर