रामपुर में एनपीएस और सीपीएफ को लेकर बैठक, रैली में भाग लेंगे 800 कर्मचारी

ETV Haryana/HP
Updated: July 17, 2017, 4:24 PM IST
रामपुर में एनपीएस और सीपीएफ को लेकर बैठक, रैली में भाग लेंगे 800 कर्मचारी
रामपुर में आयोजित हुई एनपीएस व सीपीएफ संघ की बैठक
ETV Haryana/HP
Updated: July 17, 2017, 4:24 PM IST
हिमाचल प्रदेश में न्यू पेंशन स्कीम (एनपीएस) एम्पलॉयज एसोसिएशन की एक आवश्यक बैठक सोमवार को आयोजित की गई. यह बैठक रामपुर बुशहर पंचायत समिति के सभागार में संपन्न हुई. इस बैठक में सरकारी कर्मचारी मई 2003 में सरकार द्वारा बनाई गई नई पेंशन नी​ति के विरोध में रैली के आयो​जन की रणनीति तैयार की गई.

इस बैठक की अध्यक्षता प्रदेश एनपीएस, सीपीएफ कर्मचारी महासंघ के राज्य संगठन सचिव कुणाल शर्मा ने की.

इस मौके पर हिमाचल प्रदेश सरकार के विभिन्न विभागों में कार्यरत कर्मचारियों ने भाग लिया. बैठक का मुख्य मुद्दा 25 जुलाई को शिमला में होने वाली राज्य स्तरीय रैली के बारे रणनीति तैयार करना था.

कर्मचारियों का कहना है कि जीपीएफ में जमा किया गया कर्मचारियों का धन निजी कंपनी के पास डिपॉजिट किया जा रहा है और सेवानिवृति के बाद कर्मचारी को डिपॉजिट का 60 प्रतिशत ही देने का विधान रखा गया है, जबकि शेष जमा 40 प्रतिशत किस्तों के रूप में कर्मचारियों को वापस किए जाने का प्रावधान है. यह सिर्फ निजी कंपनी को लाभ पहुंचाने की कवायद है.

कर्मचारी नई पेशन नीति का घोर विरोध कर रहे हैं. बैठक के दौरान कुशाल शर्मा ने यहां मौजूद कर्मचारियों को नई पेंशन नीति की खामियों के बारे में बताया.

उन्होंने कर्मचारियों से आह्वान किया कि वे 25 जुलाई को शिमला में होने वाली राज्यस्तरीय रैली में अधिक से अधिक संख्या में भाग लें ताकि सरकार पर पुरानी पेंशन नीति बहाल करने को लेकर दबाव बनाया जा सके. इस रैली में पूरे प्रदेश से करीब 25 हजार कर्मचारियों के भाग लेने का अनुमान है.
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर