इस शहर की खोज ने पूरी दुनिया के सामने बढ़ा दिया था भारत का रुतबा!

News18India.com

Updated: July 11, 2016, 4:01 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

नई दिल्ली। भारत एक विशाल देश है। न केवल जनसंख्या के स्तर पर बल्कि क्षेत्रफल के लिहाज से भी ये उपमहाद्वीप दुनिया के शीर्ष देशों में शुमार है। पूरी दुनिया में भारत की प्राचीन सभ्यता और संस्कृति का डंका बजता है। चीनी यात्री ह्यांग सांग ने भारतीय सभ्यता और संस्कृति का बहुत ही सुंदर वर्णन किया है। भारत की सिंधु घाटी सभ्‍यता और मोहन जोदड़ो नगर सभ्‍यता पूरी दुनिया की सबसे प्राचीन नगर सभ्‍यता रही है।

दरअसल, मुअनजो-दड़ो सिंधी भाषा का शब्‍द है, जिसका अर्थ है ‘मुर्दों का टीला’। यह दुनिया का सबसे पुराना नियोजित और उत्कृष्ट शहर माना जाता है। सिंधु घाटी सभ्यता के सबसे व्यवस्थित तरीके से बसे शहरों में से एक है मोहन जोदड़ो। इस नगर की खोज राखालदास बनर्जी ने 1922  में की थी। इसकी खुदाई के समय बड़ी संख्या में इमारतें, धातुओं की मूर्तियां और मुहरें आदि हासिल हुईं। बताया जाता है कि बीते 100 सालों में अब तक इस शहर के एक-तिहाई भाग की ही खुदाई हो सकी है, और अब वह भी बंद हो चुकी है। माना जाता है कि यह शहर 200 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला था।

इस शहर की खोज ने पूरी दुनिया के सामने बढ़ा दिया था भारत का रुतबा!
फोटो साभारः विकीपीडिया

इतिहासकारों के मुताबिक सिंधु घाटी सभ्‍यता का यह शहर जो कि अब पाकिस्‍तान के लरकाना से बीस किलोमीटर दूर और सक्खर से 80 किलोमीटर दूर जनूब मगरिब में स्‍थित है, विश्‍व की सबसे प्राचीन नागर सभ्‍यता है। भारतीय सिंधु घाटी सभ्यता काफी पुरानी मानी जाती है। हाल ही में हुई एक रिसर्च में दावा किया गया है कि सिंधु घाटी सभ्यता का आरंभ काल तो तकरीबन 8000 ईसा पूर्व से है, जो दुनिया की प्राचीन मिस्र और सुमेर सभ्यता से भी पुरानी है। यह रिसर्च इसी साल यानी  2016 में आईआईटी खड़गपुर और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के वैज्ञानिकों ने की है। इस सभ्यता की लिपि को अब भी ठीक से पढ़ा नहीं जा सका है।

जहां तक मोहन जोदड़ो की बात है यह आज भी पाकिस्‍तान में स्‍थित है और इसकी बनावट ऐसी है कि इसकी सड़कों और गलियों में आप आज भी घूम सकते हैं। इतिहासकारों के अनुसार यह शहर जहां था, आज भी वहीं है। यहां की दीवारें आज भी मजबूत हैं। आज भी आप यहां पीठ टिकाकर सुस्ता सकते हैं। दुनिया के तमाम इतिहासकारों ने इसे नगर भारत का सबसे पुराना लैंडस्केप कहा है। मोहन-जोदड़ो के सबसे खास हिस्से पर बौद्ध स्तूप हैं।

मोहन जोदड़ो आज भी पूरी दुनिया के लिए सबसे ज्‍यादा आकर्षण का केंद्र है। दरअसल, इसकी खोज के साथ ही यह विश्‍व के तमाम इतिहासकारों के बीच चर्चा का केंद्र भी बना रहा। इसकी खुदाई के साथ-साथ इसे लेकर कई कौतुहल सामने आते रहे। बॉलीवुड में ऐतिहासिक फिल्‍में बनाने वाले निर्देशक आशुतोष गोवारीकर मोहन जोदड़ो नाम से फिल्‍म भी बना रहे हैं जिसमें ऋतिक रोशन मुख्य भूमिका में हैं। इस शहर के पतन के साथ इसके भीतर कई कहानियां भी मौजूद हैं, जिन्हें इसमें दर्ज इतिहास में झांककर जाना जा सकता है।

First published: July 11, 2016
facebook Twitter google skype whatsapp