पंचायत भवन पर दो-दो ताला, एमपी के खिलाफ ग्रामीणों का उलगुलान

Kundan Kumar | ETV Bihar/Jharkhand

First published: January 14, 2017, 11:09 AM IST | Updated: January 14, 2017, 11:14 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp
पंचायत भवन पर दो-दो ताला, एमपी के खिलाफ ग्रामीणों का उलगुलान
पाकुड़ में सीएम के निर्देशों का असर दिखन लगा है. ग्रामीणों ने एमपी यानि मुखिया पति के खिलाफ आंदोलन छेड़ दिया है. घटना पाकुड़ के पाकुड़िया प्रखंड के बसंतपुर पंचायत का है. बसंतपुर पंचायत भवन में दो ताला लगा हुआ है. एक मुखिया पति का दूसरा ग्रामीणों का.

पाकुड़ में सीएम के निर्देशों का असर दिखन लगा है. ग्रामीणों ने एमपी यानि मुखिया पति के खिलाफ आंदोलन छेड़ दिया है. घटना पाकुड़ के पाकुड़िया प्रखंड के बसंतपुर पंचायत का है. बसंतपुर पंचायत भवन में दो ताला लगा हुआ है. एक मुखिया पति का दूसरा ग्रामीणों का.

क्या है मामला

पाकुड़ के पाकुड़िया प्रखंड के बसंतपुर पंचायत के ग्रामीण लगातार मुखिया पति से प्रताड़ित हो रहे थे. आक्रोशित होकर सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण पंचायत भवन में जुटे और ताला जड़ दिया. आक्रोशित ग्रामीण रानी हेम्ब्रम कहा कि मुखिया बीडी हांसदा कभी पंचायत भवन नहीं आती है. न ही किसी से बात करती है. पंचायत का काम मुखिया पति काली मुर्मू देखते हैं. वहीं आक्रोशित ग्रामीण श्रीलाल मुर्मू ने कहा कि मुखिया पति आवास में मोटी रकम की डिमांड करते हैं. किसी भी योजना का लाभ पहुंचाने के लिए ग्रामीणों से सुविधा शुल्क मांगते हैं..पंचायत भवन में मुखिया पति आकर बैठता है और मुखिया घर में रहती है. ग्रामीण अलमा बेंग का कहना है कि ग्राम सभा में अपने मन के मुताबिक मुखिया पति काम करते हैं. पंचायत में डोभा,तालाब का अधुरा काम किया गया है..और सुविधा शुल्क के बल पर सारी राशि की निकासी कर ली गई है. बीडीओ को ग्रामीणों ने कई बार मामले से अवगत कराया है, लेकिन बीडीओ ने कोई कार्रवाई नहीं की है.

एमपी के  खिलाफ कार्रवाई की मांग

पाकुड़िया के बसंतपुर पंचायत के लोगों ने सीएम से मुखिया पति पर कार्रवाई की मांग की है. सीएम के निर्देश के बाद भी मुखिया पति का प्रभाव और रुतवा कम नहीं हो रहा है. देखने वाली बात होगी कि पंचायत भवन का ताला कब तक बंद रहता है और ग्रामीणों की समस्या कब तक समाप्त होता है.

facebook Twitter google skype whatsapp