ध्‍यान पांच मिनट से ज्‍यादा कहीं टिक नहीं पाता तो इसे हल्‍के में न लें!


Updated: May 17, 2017, 8:33 AM IST
ध्‍यान पांच मिनट से ज्‍यादा कहीं टिक नहीं पाता तो इसे हल्‍के में न लें!
ध्यान एकाग्र करने के उपाय

Updated: May 17, 2017, 8:33 AM IST
ये सोशल मीडिया का दौर है. अब लोगों के दिन की शुरुआत ही लोग फेसबुक नोटिफिकेशन्स से करते हैं. ट्विटर पर डिबेट्स चलती रहती हैं.

इंस्टाग्राम पर सारा दिन स्क्रॉल करते हैं. यूट्यूब पर एक के बाद एक वीडियो देख कर छोड़ देते हैं.
रिमोट हाथ में लेकर एक के बाद एक चैनल बदलते जाते हैं.

इन सारी चीज़ों में आपने एक बात नोटिस की? आपका ध्यान एक जगह ज्यादा देर टिक ही नहीं पा रहा है. आप इधर से उधर भागे जा रहें हैं. फेसबुक से इंस्टाग्राम, इंस्टाग्राम से यूट्यूब.



रोज अखबारों में खबरें पढ़ते हैं कि रिश्ते टूट रहें हैं. कोई पत्नी कहती है कि वो फेसबुक नहीं छोड़ेंगी तो कोई पति कहता है कि वो ट्विटर नहीं छोड़ेगा. सोशल मीडिया की लत तलाक की नौबत तक पहुंच जाती है. अब लोग इंसानों की बजाय मशीनों के साथ रहना पसंद करने लगे हैं.

इन सबमें हमारी एक चीज़ का भयंकर नुक्सान भी हो रहा है. हमारा ध्यान, हमारी एकाग्रता कम होती जा रही है. दोस्तों के बीच रहकर भी हमारा ध्यान फेसबुक के कमेंट्स और लाइक्स पर रहने लगा है. हम ज्यादा भूलने लगे हैं.ऐसे में हमें गंभीरता से इस ओर ध्‍यान देने की जरूरत है. हमें अपनी एकाग्रता को बढ़ाने वाली चीज़ों पर ध्यान देने की जरूरत है.



1. सुबह की शुरुआत फ़ोन से न करें.
2 . योग करना शुरू कर दें.
3 . पार्क में घूमकर आएं.
4 . लोगों से व्हाट्स ऍप चैट्स या फ़ोन कॉल्स पर बात करने की बजाय उनसे पर्सनली मिलने की कोशिश करें.
5 . काम करते वक़्त सोशल मीडिया से दूर रहें.


6 . अपने ईमेल चेक करने का एक समय निश्चित कर लें. बार-बार ईमेल बॉक्स में जाने की आदत से पीछा छुड़ाने की कोशिश करें.
7 . एक ही साथ बहुत सारे काम करने से बचें. इससे आपकी एकाग्रता काम होती है और काम की क्वालिटी भी खराब होती है.
8 . लगातार एक ही काम में न लगे रहें. बीच-बीच में ब्रेक लें. स्नैक्स खाएं या थोड़ी देर वॉक करके आएं.
9 . स्ट्रेस काम लें. स्ट्रेस होने पर मेडिटेट करें.
10 . डिप्रेशन की वजह से भी चीज़ों में आपका ध्यान नहीं लग पाता. आप खालीपन मह्सूस करते हों, निराशावादी विचारों से घिरे रहते हों, तो किसी डॉक्टर को जरूर दिखाएं.
First published: May 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर