F8 डेवलपर कॉन्फ्रेंस : जानिए किन बड़ी चीजों पर काम कर रहा है फेसबुक

News18Hindi
Updated: April 19, 2017, 9:39 AM IST
F8 डेवलपर कॉन्फ्रेंस : जानिए किन बड़ी चीजों पर काम कर रहा है फेसबुक
फेसबुक की एनुअल डेवलपर कॉन्फ्रेंस F8 मंगलवार को सैन होजे में शुरू हुई.
News18Hindi
Updated: April 19, 2017, 9:39 AM IST
फेसबुक की एनुअल डेवलपर कॉन्फ्रेंस F8 मंगलवार को सैन होजे में शुरू हुई. सीईओ मार्क जकरबर्ग और एग्जीक्यूटिव टीम ने डेवलपर्स को ध्यान में रखते हुए कई अनाउंसमेंट किए.

फेसबुक, मैसेंजर, वॉट्सएप और इंस्टाग्राम में नए कैमरा फीचर्स, ऑगमेंटेड रिएलटी और बोट्स (इंसानों की तरह बात करने वाले कम्प्यूटर प्रोग्राम) टेक्नीक को डेवलप किया जा रहा है.

यहां पढ़िए, मार्क ने F8 में किन चीजों के बारे में अनाउंसमेंट किए...

कैमरा : F8 कीनोट में फेसबुक का फोकस कैमरा पर था. फेसबुक के मुताबिक, कैमरा आपके फोन की सबसे जरूरी चीज है. दोस्तों के साथ फोटोज और वीडियोज शेयर करना कभी बंद नहीं होगा. लेकिन, जल्द ही यूजर्स फेसबुक कैमरा में ऑगमेंटेड रियलटी एक्सपीरियंस कर पाएंगे.

F8 डेवलपर्स कॉन्फ्रेंस का वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें

सोशल वर्चुअल रियलटी : फेसबुक आपकी सोशल लाइफ को वर्चुअल रियलटी में कन्वर्ट कर देगा. वर्चुअल रियलटी ऐप के जरिए आप (या आपका कार्टूनिश अवतार) स्मार्टफोन में ही अपने दोस्तों के साथ हैंग आउट कर सकेंगे. इस वर्चुअल वर्ल्ड में आप जो भी करेंगे, उसे बाद में भी देख सकेंगे.

जैसे, वर्चुअल वर्ल्ड में ही आप बर्थडे पार्टी कर सकेंगे, इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की सैर कर सकेंगे और ऑर्बिट के साथ सेल्फी खिंचवा सकेंगे. इसमें आप किसी भी तरह का वर्चुअल वर्ल्ड तैयार कर सकेंगे. फिलहाल इस ऐप का बीटा वर्जन लॉन्च हुआ है.

व्हाट्सएप या फेसबुक ग्रुप में हैं तो जान लें ये नए निर्देश...  

मैसेंजर में म्यूजिक और गेम्स : फेसबुक अपने मैसेंजर में हर दिन बड़े बदलाव कर रहा है. जल्दी ही इस पर गेम्स खेले जा सकेंगे और म्यूजिक भी अवेलेबल होगा. म्यूजिक के लिए फिलहाल फेसबुक Spotify से कनेक्टेड है, लेकिन जल्द ही इसे एप्पल म्यूजिक से इन्टीग्रेट किया जाएगा.

ऑगमेंटेड रियलटी : फेसबुक का नया ऑगमेंटेड रियलटी (AR) टूल आपके रियल वर्ल्ड को वर्चुअल से कनेक्ट कर देगा. आप स्मार्टफोन के जरिए अपने आसपास वर्चुअल ऑब्जेक्ट्स को महसूस कर पाएंगे.

जल्द ही आप अपने पार्टनर के लिए फ्रिज पर वर्चुअल मैसेज छोड़ पाएंगे. 'SLAM' (साइमल्टेनीइस लोकलाइजेशन एंड मैपिंग) के जरिए ऑगमेंटेड रियलटी गेम्स लाए जाएंगे, जिन्हें 3D फॉर्म टेबल पर प्ले किया जा सकेगा. इस बारे में जकरबर्ग ने कहा, 'यह भविष्य की चीज होगी - लोग खाली दीवारों को देखेंगे.'

स्नैपचैट ने भारत को बताया ‘गरीब’, ट्विटर पर भड़के लोग

फ्रेम और मास्क : फेसबुक कैमरा इफेक्ट्स में कई बदलाव कर रहा है, ताकि इसे स्नैपचैट जैसा बनाया जा सके. फ्रेम स्टूडियो और एआर स्टूडियो टूल्स के जरिए डेवलपर एआर कंटेंट तैयार कर पाएंगे.

फ्रेम स्टूडियो से डेवलपर्स स्नैपचैट जियोटैग्स की 2डी ओवरले बना सकेंगे. एआर स्टूडियो से डेवलपर्स फेशियल मूवमेंट्स का 3डी मास्क बना सकेंगे (जिस तरह स्नैपचैट में डॉग मास्क और बाकी फिल्टर्स हैं).

मैसेंजर बोट्स : यह मैसेंजर का फ्यूचर है. मान लीजिए आप मैसेंजर पर दोस्तों के साथ चैट कर रहे हैं और कोई आपको थाई फूड सजेस्ट करता है. यह टेक्नोलॉजी मैसेंजर में ही आपके फेवरेट रेस्टोरेंट का पॉपअप शो करेगा.

कार्ट में पसंदीदा फूड आइटम्स एड करने से लेकर मोबाइल पेमेंट तक, सब इस टेक्नोलॉजी के जरिए हो जाएगा. चैट एक्सटेंशन्स और बोट्स प्ले के जरिए फेसबुक अपने यूजर्स को इंटरेक्टिव एक्सपीरियंस देना चाहता है.

एम सजेस्ट : फेसबुक मैसेंजर का असिस्टेंट फीचर एम सजेस्ट लॉन्च हो चुका है, लेकिन यह एप्पल के सीरी और अमेजन एलेक्सा की तरह सक्सेसफुल नहीं हो सका.

लेकिन फेसबुक लगातार एम सजेस्ट को बेहतर बनाने के लिए काम कर रहा है. F8 में जकरबर्ग ने बताया कि बिजनेस में कस्टमर इंटरेक्शन को मैनेज करने के लिए एम ऑटोमेशन टूल डेलवप कर रहे हैं.
First published: April 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर