2017 में भारत में 65 फीसदी बढ़ेंगे मोबाइल धोखाधड़ी के मामले

आईएएनएस

Updated: December 14, 2016, 11:39 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

नई दिल्ली। ई-वॉलेट और अन्य ऑनलाइन भुगतान माध्यमों से डिजिटल भुगतान में आई तेजी के साथ ही मोबाइल धोखाधड़ी के मामलों में भी तेज इजाफा हुआ है। एक प्रमुख उद्योग के स्टडी में कहा गया है कि अगले साल इसमें 60-65 फीसदी तेजी आएगी। एसोचैम और रिसर्च फर्म ईवाई द्वारा किए गए संयुक्त अध्ययन साइबर अपराध से निपटने के लिए सामरिक राष्ट्रीय उपाय में कहा है कि एक सुरक्षित साइबरस्पेस और सरकार की साइबर अपराध पर नजर रखने की पहल व्यवसायों के लिए किसी भी क्षेत्र में स्थापना, संचालन और पनपने के लिए एक महत्वपूर्ण मानदंड बन गए हैं।

इस रिसर्च में उल्लेख किया गया कि मोबाइल धोखाधड़ी कंपनियों के लिए बड़ी चिंता का विषय है, क्योंकि 40-45 फीसदी भुगतान मोबाइल डिवाइस के माध्यम से किए जा रहे हैं और यह खतरा 60-65 फीसदी बढ़ने का अनुमान है। क्रेडिट और डेबिट कार्ड धोखाधड़ी के मामले साइबर अपराध की तालिका में शीर्ष पर है और पिछले तीन सालों में इन मामलों में 6 गुना तेजी आई है।

2017 में भारत में 65 फीसदी बढ़ेंगे मोबाइल धोखाधड़ी के मामले
file photo

इस स्टडी में बताया गया है कि ऑनलाइन बैंकिंग की शिकायतों से जुड़े 46 फीसदी मामले क्रेडिट/डेबिट कार्ड धोखाधड़ी को होते हैं। इसके बाद फेसबुक से जुड़े मामले हैं जिनकी संख्या 39 फीसदी है और ये मुख्यता तस्वीरों से छेड़छाड़, साइबर पीछा और साइबर बदमाशी से जुड़े होते हैं।

 

First published: December 13, 2016
facebook Twitter google skype whatsapp