भारत को गरीब देश बताने वाले स्नैपचैट को मिला ये सबक

आईएएनएस
Updated: April 17, 2017, 7:28 AM IST
भारत को गरीब देश बताने वाले स्नैपचैट को मिला ये सबक
Photo- getty Images
आईएएनएस
Updated: April 17, 2017, 7:28 AM IST
स्नैपचैट के सीईओ इवान स्पीगल के भारत को लेकर दिए गए विवादित बयान के बाद उसे बड़ा झटका लगा है. भारत 'गरीब देश' बताने वाले  स्नैपचैट की गूगल ऐप स्टोर पर 'पांच स्टार' वाली रेटिंग 'एक स्टार' पर आ गई है.

ऐप स्टोर के ऐप इनफो के अनुसार, रविवार को इस कंपनी के हाल के वर्जन वाले ऐप की उपभोक्ता रेटिंग(Consumer rating) 'एक स्टार' (6,099 रेटिंग पर आधारित) थी और सभी वर्जनों की रेटिंग 'एक और आधा स्टार' (9,527 रेटिंग पर आधारित) थी. एंड्रोएड प्ले स्टोर के लिए ऐप की रेटिंग 'चार स्टार'(11,932,996 रेटिंग पर आधारित) थी.

'ये ऐप अमीरों के लिए है मैं इसे भारत में नहीं ले जाना चाहता'

अमेरिका की एक न्यूज वेबसाइट वैरायटी के अनुसार, शनिवार को स्नैपचैट के पुराने कर्मचारी एंटोनियो पोमपिआनो ने बताया कि कंपनी के सीईओ इवान स्पीगेल ने सितंबर 2015 को उनसे कहा था कि यह ऐप केवल अमीर लोगों के लिए है. मैं इसे गरीब देशों जैसे भारत और स्पेन में नहीं ले जाना चाहता.

बच्चे की चाह में हॉस्पिटल पहुंचे दंपति निकले जुड़वा भाई-बहन!

कंपनी के पुराने कर्मचारी ने सीईओ द्वारा कही गई बात को आगे बताया, इवान कह रहे थे कि भारतीय टिप्पणी को ठीक से नहीं लेते हैं और सोशल मीडिया का उपयोग सीईओ के बयानों पर कटाक्ष करने के लिए करते हैं. जब ऐप की रेटिंग गिरती है, तब सीईओ और ऐप की निंदा बढ़ जाती है.

'खूब हो रही आलोचना'

एक यूजर ने ऐप स्टोर पर सीईओ की आलोचना करते हुए लिखा कि पहले तो मैं इस ऐप को कोई खराब स्टार भी नहीं देना चाहता. स्नैपचैट के सीईओ इवान बताते हैं कि वह कितने मूर्ख हैं. मैं मानता हूं कि इस कंपनी का तीन-चौथाई हिस्सा भारतीय कर्मचारियों द्वारा चल रहा है. अगर वह गरीब देशों में इसका विस्तार नहीं करना चाहते, तब यह ऐप फ्री क्यों है? वह क्यों नहीं इस पर कोई फीस लेते?

व्हाट्सएप या फेसबुक ग्रुप में हैं तो जान लें ये नए निर्देश...

कुछ यूजर्स ने लिखा है कि गरीब भारत और स्पेन को स्नैपचैट से बेहतर की जरूरत है. अलविदा, मेरे स्नैपचैट अकाउंट और स्नैप इंक. तुम समय के जाने वाले और उपहास पूर्ण उत्पाद होगे और बेचारे इवान स्पीगेल. इतना ही नहीं रातभर ट्विटर पर यह ऐप सबसे ज्यादा प्रचलित हैशटैग 'बॉयकॉटस्नैपचैट' बना रहा.

एक यूजर ने ट्वीट किया कि मैं अभी तक किसी हिंदू, मुस्लिम, सिक्ख, ईसाई आदि को ट्वीट करते नहीं देखा है. हमें एक करने के लिए धन्यवाद स्नैपचैट. एक और यूजर ने ट्वीटर पर लिखा कि मैं स्नैपचैट का आदी था, लेकिन मैं इस ऐप से ज्यादा अपने देश से प्यार करता हूं. देखते हैं, तुम बगैर भारतीयों के कैसे पैसे कमाते हो? इवान स्पीगेल, 'बॉयकॉटस्नैपचैट'. स्नैपचैट के भारत में 40 लाख से ज्यादा उपयोगकर्ता हैं।

 
First published: April 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर