तीन खरीदारों को पांच करोड़ का मुआवजा देना होगा यूनीटेक को वर्ना डायरेक्टर जाएंगे जेल

News18India.com

Updated: July 2, 2016, 8:53 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

नई दिल्ली। फ्लैट बुक करने के बाद खरीदारों को लंबा इंतजार कराने वाले बिल्डरों के लिए एक बुरी खबर है। यूनीटेक के बरगंडी अपार्टमेंट के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया है कि 12 अगस्त तक अगर उसने अपने तीन खरीदारों को 5 करोड़ रुपये का अंतरिम मुआवजा नहीं दिया तो उसके डायरेक्टरों को जेल जाना होगा।

गौरतलब है कि बरगंडी अपार्टमेंट नोएडा के सेक्टर 96, 97, 98 में फैले हुए यूनीटेक गोल्फ कंट्री का हिस्सा है। इस अपार्टमेंट का पजेशन 2012 में दिया जाना था लेकिन आज तक यहां काम पूरा नहीं हुआ है। परेशान होकर इसके खरीदार नेशनल कंज्यूमर फोरम चले गए। फोरम ने तीन खरीदारों को 5 करोड़ रुपये का मुआवजा देने के आदेश यूनीटेक को दिया लेकिन इस फैसले के खिलाफ मई में यूनीटेक सुप्रीम कोर्ट चला गया।

तीन खरीदारों को पांच करोड़ का मुआवजा देना होगा यूनीटेक को वर्ना डायरेक्टर जाएंगे जेल
फ्लैट बुक करने के बाद खरीदारों को लंबा इंतजार कराने वाले बिल्डरों के लिए एक बुरी खबर है।

सुप्रीम कोर्ट ने तब भी यूनीटेक से कहा था कि वो खरीदारों को अंतरिम मुआवजा दे, उसी के बाद उसकी सुनवाई होगी। अब कोर्ट ने यूनीटेक को साफ-साफ चेतावनी दी है कि उसे 12 अगस्त तक मुआवजे का भुगतान करना होगा। कोर्ट ने कहा कि पेमेंट में देरी के लिए यूनिटेक के पास कोई ठोस कारण नहीं है। 12 अगस्त तक मुआवजा नहीं देने पर डायरेक्टरों को हिरासत में ले लिया जाएगा।

First published: July 2, 2016
facebook Twitter google skype whatsapp