क्यों जरूरी है बच्चों का रामायण-महाभारत पढ़ना?


Updated: January 23, 2017, 3:30 PM IST
क्यों जरूरी है बच्चों का रामायण-महाभारत पढ़ना?
सांकेतिक तस्वीर

Updated: January 23, 2017, 3:30 PM IST
कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा है कि बच्चों को ब्रिटिश काल से चली आ रही शिक्षा की बजाय भारतीय संस्कृति और साहित्य की शिक्षा भी देनी चाहिए.
रविवार को जेएलएफ में चर्चा करते हुए थरूर ने कहा कि बच्चों को रामायण और महाभारत जैसे ग्रन्थ पढ़ाए जाने चाहिए. साथ ही उन्होंने कहा कि जब भारत के पास कालीदास मौजूद हैं तो शेक्सपीयर को फॉलो क्यों किया जाए.

फ्रंट लॉन में रिमेम्बरिंग द राज शीर्षक से आयोजित सेशन में शशि थरूर और जॉन विल्सन के साथ माइकल डायर ने संवाद किया. सेशन में भारत में ब्रिटिश शासन पर चर्चा की गई. थरूर ने कहा कि ब्रिटिशर्स ने अपने फायदे के लिए भारत का उपयोग किया और ब्रिटिशर्स का ध्यान सोसायटी को सिविलाइज करने की बजाय मनी मेकिंग पर ही ज्यादा रहा.

उन्होंने कहा कि ब्रिटिशर्स ने गरीबी और भुखमरी दूर करने के लिए कुछ नहीं किया और ब्रिटिश शासन की गलत नीतियों की वजह से हजारों लोगों की मौत हुई. उन्होंने ब्रिटिश शासन में जातिभेद, नौकरी में भेदभाव आदि की भी बात कही. हालांकि उन्होंने ब्रिटिश राज में सिविलाइजेशन और इंफ्रास्ट्रक्चर डवलपमेंट की बात स्वीकारी.

वहीं सेशन में थरूर ने वर्तमान भाजपा सरकार पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि वर्तमान मोदी सरकार गांधी के योगदान को भुलाना चाहती है और गांधी अब केवल एक सिम्बल बन गए हैं. थरूर ने कहा कि साक्षी महाराज नाथूराम गोडसे की प्रतिमा लगाने की बात कहते हैं.

हर दिन पढ़ें हनुमान चालीसा, ये हैं पढ़ने के फायदे

ऐसी मान्यता है कि, कलियुग में एक मात्र हनुमान जी ही जीवित देवता हैं. यह अपने भक्तों और आराधकों पर सदैव कृपालु रहते हैं और उनकी हर इच्छा पूरी करते हैं.

हनुमान चालीसा में कहा गया है कि हनुमान जी अष्टसिद्घि और नवनिधि के दाता कहा गया. जो व्यक्ति नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करता है. उसकी हर मनोकामना हनुमान जी पूरी करते हैं चाहे वह धन संबंधी इच्छा ही क्यों न हो.

जब कभी भी आपको आर्थिक संकट का सामना करना पड़े मन में हनुमान जी का ध्यान करके हनुमान चालीसा का पाठ करना शुरू कर दीजिए.

कुछ ही हफ्तों में आपको समस्या का समाधान मिल जाएगा और आर्थिक चिंताएं दूर हो जाएगी. इस बात का ध्यान रखें कि पाठ किसी दिन छोड़ें नहीं. अगर यह क्रम मंगलवार से शुरू करें तो बेहतर रहेगा.
First published: January 23, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर