खण्हर में तब्दील होता जा रहा है खरगोन का प्राचीन किला

Ashutosh Purohit | News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 8:02 PM IST
खण्हर में तब्दील होता जा रहा है खरगोन का प्राचीन किला
खरगोन का प्राचीन किला
Ashutosh Purohit | News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 8:02 PM IST
खरगोन का प्राचीन किला उपेक्षा के चलते खण्हर में तब्दील होता जा रहा है. हाल ही में किले की एक दीवार ज़मीदोज़ हो जाने के बाद भी पुरातत्व विभाग मामले में कोई सुध नहीं ले रहा है.

इस अमूल्य धरोहर को सहेजने को लेकर जहाँ पुरातत्व विभाग उदासीन रवैया अपनाये हुये है वहीं जिला प्रशासन द्वारा भी इसके जीर्णोद्धार को लेकर कोई कदम नहीं उठा रहा है. इस ऐतिहासिक संपदा की वर्तमान हालत देखकर इतिहासकार भी दुखी हैं. वर्षो से इस बारे में जिला पुरातत्व विभाग की एक भी बैठक नहीं हुई है और तो और इस ओर प्रशासन का ध्यान तक नही गया है.

इतिहाकार और डॉ. एम रायकवार के मुताबिक परमार काल में 11वीं शताब्दी का प्राचीन किला है इसका वास्तु स्थापत्य परमारकालीन है. पुरातत्व विभाग के अधीन इस प्राचीन किले को जीर्णोद्धार की आवश्यकता है. किले की हालत पर मुख्य नगर पालिका अधिकारी निशिकांत शुक्ला का कहना है कि किले के सरंक्षण का जिम्मा पुरातत्व विभाग के अधिकार क्षेत्र में आता है. हांलाकि कलेक्टर के आदेश बाद मीडिया में खबरें दिखाने द्वारा किले के मुख्य द्वार पर मरम्मत कर रंग-रोगन कराया गया है.
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर