मानसिक रूप से बीमार लोगों के लिए भगवान से कम नहीं ये शख्स!

जनक दवे | News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 10:56 PM IST
मानसिक रूप से बीमार लोगों के लिए भगवान से कम नहीं ये शख्स!
तीन सालों में 148 मानसिक रूप से अस्वस्थ लोगों के लिए भगवान बने Dinesh
जनक दवे | News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 10:56 PM IST
कई बार अपने आसपास हुई कोई घटना दिल को ऐसी चुभ जाती है जो आपके जीने का मकसद ही बदलकर रख देती है. बात करते है अहमदाबाद के एक ऐसे शख्स की जिसने अपने जीवन को ही एक मिशन बना दिया है.

मिशन भी ऐसा जो हर किसी के बस की बात नहीं. इस शख्स का मिशन है, जिसका कोई नहीं उसे अपना बनाना और बिछड़े लोगों को अपनों से मिलाना. बहुत मुश्किल है यह करना. इस कहानी को पढ़ेंगे तो आप भी इस मिशन को सलाम करेंगे.



मानसिक रूप से अस्वस्थ व्यक्ति के साथ रहना मुश्किल बात होती है. आपके आसपास आपने भी ऐसे कई लोग देखे होंगे, लेकिन क्या कभी आपने उनके लिए कुछ करने का सोचा है? अहमदाबाद के दिनेश लाठिया केवल मनोरोगियों के लिए ही काम करते हैं. सड़कों पर घूमने वाले मानसिक रूप से अस्वस्थ लोगों की मदद करने के लिए वो हमेशा तैयार रहते हैं.



इतना ही नहीं उन्हें सदमे से बाहर लाकर एक सामान्य इंसान बनाते है और उसके बाद उन्हें उनके घर वापस पहुंचाते हैं. परिवार से बिछड़े ऐसे कई लोग सालों बाद अपने परिवार से मिल पाए हैं. चाहे बिहार के कटिहार का राहुल हो, चाहे उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले का रामकृपाल हो, चाहे चित्तौड़गढ़ राजस्थान का महेश हो. सबको उन्होंने उनके घर पहुंचाया.

तीन सालों में 148 मानसिक रूप से अस्वस्थ लोगों के लिए भगवान बने दिनेश
पिछले 3 सालों में मानसिक रूप से बीमार 148 लोगों को दिनेश भाई ने ढूंढा है, उनकी परवरिश की और उन्हें ठीक किया और उनके परिवार वालों से वापस भी मिलवाया.



आज भी दिनेश भाई के पास मानसिक रूप से अस्वस्थ 104 लोग रहते हैं. उनके रहने, खाने-पीने का ही नहीं उन्हें बीमारी से निजात दिलाने के लिए दवाइयों तक का खर्च भी वो खुद उठाते हैं.

दरअसल सूरत में एक मानसिक रूप से अस्वस्थ महिला के साथ हुए बलात्कार के बाद उसके प्रेग्नेंट होने की खबर ने उन्हें अंदर तक झकझोर दिया था. उस महिला की परवरिश करने का बीड़ा उठाने के बाद उनकी जिंदगी का मकसद ही ऐसे पीड़ित लोगों की सेवा करने का हो गया.



दिनेश भाई के इस काम को देखते हुए गांव वाले भी आगे आए. गांव वालों ने गांव की 3 एकड़ जमीन दिनेश भाई को दी जिससे वो समाज सेवा का काम कर सके और अपने मिशन को कामयाब बना सकें.
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर