देश के जवानों की शौर्य गाथाएं सुनाती हैं ये कॉमिक्स

अमित पांडेय | News18India

Updated: March 20, 2017, 11:22 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

आज की डिजिटल दुनिया में ज्यादातर बच्चे अपना ज्यादा से ज्यादा वक्त मोबाइल गेम्स खेलने में बिताते हैं. ऐसे में सीआरपीएफ ने बच्चों को कॉमिक्स जैसे पुराने मनोरंजन के साधन से जोड़ने की एक शानदार पहल की है. अब तक कॉमिक्स में काल्पनिक नायकों की कहानियां पढ़ने वाले बच्चे, अब असल जिंदगी के हीरो की कहानियां इनमें पढ़ सकेंगे.

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल यानि सीआरपीएफ की इस कॉमिक्स में दुश्मनों से टकराने वाले जवानों की बहादुरी के किस्से दिए गए हैं. सीआरपीएफ ने 9 ऐसी कॉमिक्स जारी की हैं जिनमें से कुछ में सेना या सुरक्षा बल के ऐतिहासिक टीम वर्क की कहानी है, तो कुछ में किसी बहादुर योद्धा की शौर्य गाथा है.

रंग-बिरंगी तस्वीरों से सजी इन कॉमिक्स में उन जांबाजों की कहानियां हैं जिन्होंने अपनी जान पर खेलकर, अपना सब कुछ दांव पर लगाकर, देश की हिफाजत की और दुश्मनों को धूल चटाई. इनमें खतरे से भरे उन खास ऑपरेशंस का भी कहानी के रूप में विवरण है, जिन्हें देश के सुरक्षा बलों ने अंजाम तक पहुंचाया.

इन कॉमिक्स में बताया गया है कि हमारे भारतीय जवान किन मुश्किल हालात में रहकर देश की हिफाजत करते हैं. इसके साथ ही ये भी बताया गया है कि कैसे घर से और अपनों से दूर रहकर वो दुश्मनों से लोहा लेते हैं. इनमें से एक कॉमिक्स है 'सरदार पोस्ट'. इसमें 1965 में कच्छ के रण में पाकिस्तानी फौजियों को धूल चटाने की कहानी है.

इसी तरह 'जांबाज इलंगो' नाम की एक कॉमिक्स है, जिसमें 23 फरवरी 2013 की कहानी है, जब छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में तैनात डीआईजी एस इलंगो ने माओवादियों के खिलाफ जबरदस्त ऑपरेशन चलाया और दो माओवादी कमांडरों को ढेर कर दिया.

जवानों के शौर्य से जुड़ी ऐसी ही अन्य कहानियां इन कॉमिक्स में बच्चों के लिए रोचक रूप से लिखी गई हैं. जवानों की जिंदगी और उनकी बहादुरी की दास्तान बच्चों तक पहुंचाने वाली इस अनूठी पहल को बड़े भी काफी पसंद कर रहे हैं.

First published: March 20, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp