जाट आंदोलन: दिल्ली पुलिस ने जारी की ट्रैफिक एडवाइजरी, ये रास्ते आज रहेंगे बंद

News18India
Updated: March 19, 2017, 9:12 AM IST
News18India
Updated: March 19, 2017, 9:12 AM IST
सोमवार को जाट, आरक्षण के मसले पर दिल्ली में आंदोलन करने वाले हैं, लेकिन यहां कानून-व्यवस्था की स्थिति न बिगड़े इससे निपटने के लिए पुलिस ने कई अहम फैसले किए हैं. इसमें मेट्रो भी शामिल है. आंदोलन के चलते पूरी दिल्ली में 3 स्तर की सुरक्षा व्यवस्था की गई है. इसके तहत कई इलाकों में आज ही धारा 144 लागू कर दी जाएगी. साथ ही दिल्ली पुलिस के अलावा पैरामिलिट्री फोर्स की 110 कंपनियां दिल्ली के तमाम बॉर्डर पर तैनात रहेंगी.

सोमवार को दिल्ली के बाहर नहीं जाएगी मेट्रो, हरियाणा में हाई अलर्ट

ट्रैक्टर-ट्रॉली और आंदोलन संबंधित किसी भी वाहन को दिल्ली में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी. नई दिल्ली इलाके और पूरे लुटियन जोन में भी ट्रैफिक के लिए गाइडलाइंस जारी की गई हैं. यहां सिर्फ वही लोग अपनी गाड़ियां ले जा सकेंगे जो इन इलाकों में रहते हैं या फिर जिनके पास यहां जाने की कोई ठोस वजह हो, आपातकालीन वाहनों पर कोई पाबंदी नहीं है.

साथ ही जिन छात्रों की परीक्षा है, उन्हें आईडी कार्ड देखकर जाने दिया जाएगा.





नई दिल्ली आने वाली तमाम सड़कें 19 मार्च की रात 8 बजे से बंद हो जाएंगी. इसके अलावा दिल्ली के बाहर के सभी मेट्रो स्टेशन को आज रात 11:30 बजे से बंद कर दिया जाएगा. साथ ही नई दिल्ली के आसपास के इलाकों के स्टेशन रात 8 बजे ही बंद हो जाएंगे और इन्हें दिल्ली पुलिस के अगले आदेश के बाद ही खोला जाएगा.

दिल्ली के बंद रहने वाले मेट्रो स्टेशन

जो मेट्रो स्टेशन बंद रहेंगे, उनमें राजीव चौक, पटेल चौक, केंद्रीय सचिवालय, उद्योग भवन, लोक कल्याण मार्ग, जनपथ, मंडी हाउस, बाराखंबा मार्ग, आर के आश्रम मार्ग, प्रगति मैदान, खान मार्किट, शिवाजी स्टेडियम और मेट्रो स्टेशन शामिल हैं. इनके अलावा सोमवार को जिन रुट पर मेट्रो नहीं चलेगी. उनमें गुरु द्रोणाचार्य से हुड्डा सिटी सेंटर रूट, कौशांबी से वैशाली रूट, अशोक नगर से नोएडा सिटी सेंटर सराय से एस्कॉर्ट मुजेसर शामिल हैं.

जाट आंदोलन के चलते हरियाणा में हाई अलर्ट, सरकार ने बुलाई सेना



साथ ही दिल्ली पुलिस ने लोगों से अपील की है कि जाट आंदोलन और ट्रैफिक पुलिस की एडवाइजरी को ध्यान में रखकर ही बाहर निकलें. वहीं प्रदर्शनकारियों से भी अपील की गई है कि वो किसी भी तरह का कानून न तोड़ें.
First published: March 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर