सरकार ने दिए निर्देश, अब रेस्टोरेंट के बिल में नहीं थोपा जाएगा सर्विस चार्ज

भाषा
Updated: April 21, 2017, 8:54 PM IST
सरकार ने दिए निर्देश, अब रेस्टोरेंट के बिल में नहीं थोपा जाएगा सर्विस चार्ज
File photo - PTI
भाषा
Updated: April 21, 2017, 8:54 PM IST
सरकार ने आज साफ किया है कि होटल और रेस्टोरेंट के बिल पर सर्विस चार्ज लगेगा या नहीं ये पूरी तरह से ग्राहक पर निर्भर करेगा. इसे अनिवार्य तौर पर नहीं लगाया जा सकता.

शुक्रवार को खाद्य और उपभोक्ता मामले के मंत्री राम विलास पासवान ने ये बात कही. उन्होंने कहा कि सरकार ने इससे संबंधित दिशा-निर्देशों को मंजूरी दे दी है.

मंत्री ने कहा कि होटल और रेस्टोरेंट सेवा शुल्क नहीं तय करेंगे बल्कि ये ग्राहक के विवेक पर निर्भर करेगा कि वो ये चार्ज देना चाहता है या नहीं. इन दिशा-निर्देशों को अब जरूरी कारवाई के लिए राज्यों को भेजा जायेगा.

होटल के बिल से हटे सर्विस चार्ज, पासवान ने पीएमओ को दी सलाह

पासवान ने ट्वीट करके बताया कि सरकार ने सर्विस चार्ज पर गाइडलाइन्स को मंजूरी दे दी है. इनके नियमों के अनुसार सेवा शुल्क पूरी तरह से स्वैच्छिक है, न कि अनिवार्य. उन्होंने लिखा कि होटल और रेस्टोरेंट को ये नहीं तय करना चाहिए कि ग्राहक कितना सेवा शुल्क दें. बल्कि ये ग्राहक के विवेक पर छोड़ दिया जाना चाहिए.

मंत्री ने कहा कि दिशानिर्देश जरूरी कार्रवाई के लिए राज्यों को भेजे जा रहे हैं. दिशानिर्देश के मुताबिक बिल में सेवा शुल्क भुगतान के हिस्से को खाली छोड़ा जाएगा, जिसे ग्राहक अंतिम भुगतान से पहले अपनी इच्छा से भरेगा.

देशभर में लागू हुआ खाद्य सुरक्षा कानून

वहीं, उपभोक्ता मामले मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अगर सेवा शुल्क अनिवार्य रूप से लगाया गया है तो ग्राहक उपभोक्ता अदालत में शिकायत दर्ज करा सकते हैं. उन्होंने कहा कि फिलहाल नियमों का उल्लंघन करने पर भारी जुर्माना और कड़ी कार्रवाई नहीं की जा सकती है, क्योंकि मौजूदी समय में उपभोक्ता सुरक्षा कानून मंत्रालय को ऐसा करने का अधिकार नहीं देता है. लेकिन नए उपभोक्ता सुरक्षा विधेयक के तहत गठित किए जाने वाले प्राधिकार के पास कार्रवाई करने का अधिकार होगा.

गौरतलब है कि पिछले हफ्ते पासवान ने कहा था कि सेवा शुल्क का कोई अस्तित्व ही नहीं है. ये गलत ढंग से लगाया जा रहा है. उनका कहना था कि हमने इस मुद्दे पर परामर्श पत्र तैयार किया है.
First published: April 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर