एक बार में 42 किलोमीटर दौड़ जाते हैं टाटा के नए चेयरमैन

Pradesh18
Updated: January 13, 2017, 8:48 AM IST
एक बार में 42 किलोमीटर दौड़ जाते हैं टाटा के नए चेयरमैन
photo- pti
Pradesh18
Updated: January 13, 2017, 8:48 AM IST
ऐसा पहली बार है जब कोई गैर पारसी टाटा ग्रुप का चेयरमैन बना है. चंद्रशेखरन में सबसे खास बात है कि वे जो एक बार ठान लेते हैं उसे पूरा करके दिखाते हैं. चंद्रा के नाम से मशहूर चंद्रशेखरन को उनके डॉक्टर ने रोज 15,000 कदम चलने की सलाह दी थी. लेकिन पहली बार जब वे जॉगिंग के लिए निकले तो 100 मीटर ही दौड़ सके थे.

हालांकि, इसके 9 महीने बाद ही उन्होंने पहला फुल मैराथन पूरा किया. नटराजन चंद्रशेखर का जन्म तमिलनाडु के नम्क्कल के पास मोहनूर में एक तमिल परिवार में हुआ था. फिलहाल वो मुंबई में अपनी पत्नी ललिता और पुत्र प्रणव के साथ रहते हैं. नटराजन चंद्रशेखर एक अच्छे फोटोग्राफर और लॉन्ग डिस्टेंस रनर भी हैं. इन्होंनें मुंबई, टोक्यो, न्यूयॉर्क, बर्लिन, शिकागो और बोस्टन समेत कई जगहों पर मैराथन में हिस्सा लिया है.

किसी भी कंपनी को और क्या चाहिए होता है कि उस संस्था का नेतृत्व करने वाला तेज दिमाग और सही वक्त पर सही फैसला लेने वाला हो. शायद यही वह खूबी है, जिसने टीसीएस जैसी दिग्गज कंपनी के एक गुमनाम एंप्लॉयीज से उ‌न्हें पहले उसका चेयरमैन बनाया .
चंद्रा ने 1986 में त्रिची के रीजनल इंजिनियरिंग कॉलेज से कंप्यूटर ऐप्लिकेशंस में मास्टर्स डिग्री ली. चंद्रा ने अपना कॉलेज प्रॉजेक्ट वर्क टीसीएस में किया और दो महीने बाद ही उन्हें कंपनी से जॉब ऑफर मिल गया था. शायद वह किसी आईटी कंपनी की कैंपस हायरिंग के सबसे सफल कैंडिडेट हैं.

चंद्रशेखरन के नेतृत्व में टीसीएस ने की कमाई

चंद्रशेखरन क्षेत्रीय इंजीनियरिंग कॉलेज, त्रिची, तमिलनाडु से कंप्यूटर एप्लिकेशंस में मास्टर्स करने के बाद टीसीएस से जुड़े थे. उनके नेतृत्व में टीसीएस ने 2015-16 16.5 अरब डालर की कमाई की. टीसीएस 2015-16 में देश की सबसे मूल्यवान कंपनी कंपनी बनी और इसका बाजार पूंजीकरण 70 अरब डॉलर से अधिक रहा.

'चंद्रशेखरन बेस्ट च्वॉइस'

नटराजन चंद्रशेखरन की नियुक्ति पर टाटा सन्स ने प्रतिक्रिया दी है. टाटा सन्स ने कहा है कि नटराजन चंद्रशेखरन की अगुआई में टाटा समूह प्रेरित होगा और वो अपनी प्रबंधन की क्षमता से ग्रुप को सफलता की ऊंचाई पर ले जाएंगे. वहीं टीसीएस के डायरेक्टर इशात हुसैन ने कहा कि चंद्रशेखरन इस पद के लिए सबसे अच्छा विकल्प थे. एसबीआई की चेयरमैन अरुंधति भट्टाचार्या ने भी नटराजन चंद्रशेखरन का स्वागत किया है.

नटराजन ने दिया धन्यवाद

टाटा सन्स के चेयरमैन चुने जाने पर नटराजन चंद्रशेखरन ने खुशी जाहिर की है और कहा कि वो पिछले तीस साल से टाटा परिवार से जुड़े रहे हैं और ये पद पाकर बेहद गर्व महसूस कर रहे हैं. नटराजन ने बोर्ड और रतन टाटा का धन्यवाद किया है. उन्होंने कहा टाटा समूह तीव्र बदलाव से गुजर रहा है और उनका ‘प्रयास होगा कि समूह को नैतिका और उन मूल्यों के साथ आगे बढ़ाने में मदद की जा सके जिनके आधार पर इसका निर्माण हुआ है.
First published: January 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर