केजरीवाल बनाम एलजी : शुरू हुई जंग, बैजल ने रिजेक्ट किया डीटीसी किराया कम करने का प्रस्ताव

Pradesh18
Updated: January 13, 2017, 10:13 AM IST
केजरीवाल बनाम एलजी : शुरू हुई जंग, बैजल ने रिजेक्ट किया डीटीसी किराया कम करने का प्रस्ताव
दिल्ली में उपराज्यपाल बेशक बदल गए हों लेकिन लगता है कि दिल्ली सरकार और एलजी के बीच तनातनी कम नहीं होने वाली. नए उपराज्यपाल अनिल बैजल ने डीटीसी किराया कम करने की फाइल सरकार को वापस लौटा दी है.
Pradesh18
Updated: January 13, 2017, 10:13 AM IST
दिल्ली में उपराज्यपाल बेशक बदल गए हों लेकिन लगता है कि दिल्ली सरकार और एलजी के बीच तनातनी कम नहीं होने वाली. नए उपराज्यपाल अनिल बैजल ने डीटीसी किराया कम करने की फाइल सरकार को वापस लौटा दी है.

दिल्ली सरकार ने दिसम्बर में नॉन एसी बसों के किराए में 5 रुपए और एसी बसों के किराये में 10 रुपए की कटौती करने का फैसला लिया गया है. इस प्रस्ताव के अप्रूवल के लिए फाइल एलजी अनिल बैजल पिछले हफ्ते भेजी गई थी. यह फाइल बुधवार को लौटा दी गई है.

सूत्रों की मानें तो यह कदम पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बढ़ावा देने और पल्यूशन कम करने के इरादे से दिल्ली सरकार ने उठाया था. फाइनैंस डिपार्टमेंट से आपत्ति के बावजूद परिवहन मंत्री सत्येंद्र जैन को यह उम्मीद थी कि एलजी इस प्रस्ताव पर मुहर लगा देंगे.

वित्त विभाग को इस बात को लेकर संदेह था कि किराया घटाए जाने से दिल्ली ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन की बसों का ज्यादा लोग इस्तेमाल करने लगेंगे. उन्होंने इसी वजह से सरकार के निर्णय पर आपत्ति भी जताई थी.

गौरतलब है कि डीटीसी के पास कुल 4,000 के आसपास बसें हैं. इनमें से 3,700 बसों का रोजाना संचालन होता है. बसों की संख्या बढ़ाने के लिए भी सुझाव दिए गए हैं. डीटीसी बसों में रोजाना तकरीबन 35 लाख या​त्री सफर करते हैं.
First published: January 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर