कपिल मिश्रा का आरोप: 2 करोड़ के लिए केजरीवाल ने झूठ बोला

News18Hindi
Updated: May 19, 2017, 12:56 PM IST
कपिल मिश्रा का आरोप: 2 करोड़ के लिए केजरीवाल ने झूठ बोला
कपिल मिश्रा
News18Hindi
Updated: May 19, 2017, 12:56 PM IST
आम आदमी पार्टी से बाहर किए गए विधायक कपिल मिश्रा ने शुक्रवार को अरविंद केजरीवाल पर एक और गंभीर आरोप लगाए. प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने चार कंपनियों के रसीद जारी करते हुए दावा किया कि आम आदमी पार्टी में हवाला कंपनियों का पैसा लगा हुआ है. आप ने फर्जी कंपनियों से चंदा लिया.

कपिल ने कहा, साल 2014 में मुकेश कुमार कंपनी के निदेशक नहीं थे. उन्हें बलि का बकरा बनाया गया है. उसे सच छुपाने के लिए लगाया गया है. उसकी चार कंपनियों से आप को चंदा दिया गया.

बताते चलें कि बुधवार को उन्होंने एक बार फिर अरविंद केजरीवाल पर हमला बोला था. उन्‍होंने कहा था कि केजरीवाल पिछले साल केवल दो बार मुख्‍यमंत्री दफ्तर गए थे, लेकिन पिछले दिनों वे सरकार-3 देखने चले गए. उन्‍होंने टि्वटर पर ब्‍लॉग की फोटो पोस्‍ट कर केजरीवाल से पूछा कि वह अंतिम बार अपने कार्यालय कब गए थे.

सिर्फ दो बार कार्यालय गए थे केजरीवाल

मिश्रा ने लिखा, "दिल्ली के लोगों को शायद यह नहीं पता होगा कि केजरीवाल पिछले साल केवल दो बार अपने कार्यालय गए थे. क्या केजरीवाल में हिम्मत है कि वह दिल्ली के लोगों को अपनी परफॉर्मेंस रिपोर्ट दिखाएं?"

मुख्यमंत्री के पास नहीं है कोई विभाग
कपिल मिश्रा ने केजरीवाल को देश का एकमात्र मुख्यमंत्री करार दिया, जिनके पास कोई विभाग नहीं है. उन्‍होंने कहा, 'केजरीवाल मुश्किल से काम करते हैं. वह ऐसे मुख्यमंत्री हैं, जो सबसे ज्यादा छुट्टी लेते हैं. अब वह ऐसे मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं, जिनके खिलाफ भ्रष्टाचार के सबसे ज्यादा मामले होंगे.'

जनता 15 दिन में सब भूल जाती है
उन्‍होंने केजरीवाल पर आरोप लगाते हुए कहा, 'अरविंद जी बंद कमरों में आज कल अपने साथियों से एक बात कह रहे हैं, जनता से मत डरो. जनता 15 दिन में सब भूल जाती है. इसीलिए वो चुप है कि 15-20 दिन में लोग भूल जाएंगे.'

आरोप गलत साबित करके दिखाएं केजरीवाल
कपिल ने केजरीवाल को चुनौती भी दी कि वह उनके द्वारा लगाए गए किसी भी आरोप को गलत साबित करके दिखाएं. उन्होंने कहा, केजरीवाल को खुली चुनौती, मेरे द्वारा लगाए गए कम से कम एक आरोप को गलत साबित करें. मैंने खत में केवल आपके बारे में लिखा है.

छह मई को हुए थे बर्खास्त
कपिल को छह मई को जल, पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री के पद से बर्खास्त कर दिया गया था. इसके बाद वे अनशन पर बैठे थे. उन्‍‍होंने केजरीवाल के खिलाफ एसीबी और सीबीआई में शिकायत भी की है.
First published: May 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर