''मुझे पता था कि कोई भी खुली बाहों से मेरा स्वागत नहीं करेगा''

आईएएनएस
Updated: March 19, 2017, 5:35 PM IST
''मुझे पता था कि कोई भी खुली बाहों से मेरा स्वागत नहीं करेगा''
मुझे पता था कि कोई भी खुली बाहों से मेरे स्वागत नहीं करेगा
आईएएनएस
Updated: March 19, 2017, 5:35 PM IST
ऐसे समय में जब बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद वाले बयान सुखिर्यो में है और सभी कलाकार सक्रिय रूप से आवाज उठा रहे हैं. वहीं राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेता राजकुमार राव ने बताया कि फिल्म उद्योग में प्रवेश करते हुए मैं संघर्ष का सामना करने के लिए तैयार था.

राजकुमार ने कहा, "फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एफटीआईआई) में अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद, मैं फिल्म उद्योग में संघर्ष के लिए तैयार था. मुझे पता था कि मैं सिर्फ उन कलाकारों में से था, जो अपना सपना पूरा करने के लिए मुंबई आए थे. मुझे पता था कि कोई भी खुली बाहों से मेरा स्वागत नहीं करेगा और दर्शक मौका पाने का एकमात्र तरीका था, इसलिए मैंने संघर्ष किया और मुझे उस प्रक्रिया के बारे में कोई शिकायत नहीं मिली."

हरियाणा के गुड़गांव में जन्मे राजकुमार ने पुणे के एफटीआईआई में पढ़ाई की. इसके लिए वह हर दरवाजे गए और फिल्मों में काम पाने के लिए कई भूमिकाओं के ऑडिशंस भी दिए, लेकिन उन्हें लिया नहीं गया.

राजकुमार ने कहा, "ऐसा वक्त भी था जब कुछ भी ठीक नहीं था. मेरे पास कोई योजना नहीं थी, मुझे शुरुआत से ही यकीन था कि लोगों को मेरा अभिनय पसंद है और अपने बाकी बचे जीवन में यही करना चाहता था, इसलिए मैं संघर्ष के लिए तैयार था."
First published: March 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर