कैसा होता है कोर्ट, क्‍या है ऐस? टेनिस को कितना जानते हैं आप...

News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 9:55 AM IST
कैसा होता है कोर्ट, क्‍या है ऐस? टेनिस को कितना जानते हैं आप...
tennis: जानें टेनिस के बारे वाे सबकुछ जो आपके लिए है जरूरी. (Gettyimages)
News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 9:55 AM IST
स्विट्जरलैंड के दिग्गज टेनिस स्टार रोजर फेडरर ने आठवीं बार विम्बलडन पर कब्जा कर एक रिकॉर्ड बना दिया है. ऐसा करने वाले वह दुनिया के पहले टेनिस खिलाड़ी बन गए हैं. इस तरह उन्होंने पीट संप्रास और विलियम रेनशॉ को पीछे छोड़ दिया. भारत में ​टेनिस को लेकर भले ही उतनी रुचि आम लोगों में न दिखती हो लेकिन फेडरर के इस बड़े करिश्मे की हर ओर चर्चा है. तो आइए जानते हैं फेडरर को करीब से जानने से पहले टेनिस के उन चुनिंदा शब्दों के मायने जिससे आप इस खेल को अच्छे से समझ सकते हैं:

ऐस: जब कोई खिलाड़ी सर्विस से जीत दर्ज करता है, जिसमें उसका प्रतिद्वंद्वी उसकी सर्विस को रिटर्न करने में नाकाम रहता है.
एडवांटेज: जब एक खिलाड़ी ड्यूस से स्कोर करता है तो अम्पायर उस खिलाड़ी के लिए एडवांटेज की घोषणा करता है यानी उसके बाद अगर फिर वह खिलाड़ी अगला प्वाइंट जीत लेता है तो वह गेम जीत जाएगा.
बैकहैंड: आपका विपक्षी राइट हैंडेड है और उसका बायां पक्ष कमजोर है, अगर आप उसके बाएं साइड बॉल हिट कर ऐसे डालें कि वह रिटर्न करने में असफल हो तो इसे बैकहैंड कहते हैं.

बॉलपर्सन: छोटे लड़के या लड़की जो गेम के दौरान बॉल कोर्ट से कलेक्ट कर खिलाड़ियों को देते हैं.
बेसलाइन: प्लेइंग एरिया की अंतिम सीमा रेखा जिसके बाहर से या छूते हुए सर्विस करने पर आपकी सर्विस को गलत ठहरा दिया जाता है.
ब्रेक: अगर आपका विपक्षी सर्विस से खेल को शुरू करता है और आप प्वाइंट लेकर हराते हैं और उसकी सर्विस ब्रेक करते हैं तो इसे ब्रेक कहा जाता है.
ब्रेक प्वाइंट: अगर स्कोर 30-40 है, तो इसे ब्रेक प्वाइंट कहते हैं. इसके बाद अगर आप प्वाइंट अपने पक्ष में कर लेते हैं तो इसके बाद आप गेम जीत जाते हैं. यही से सर्विस भी ब्रेक होती है.
क्रॉसकोर्ट: टेनिस की गेंद का वह शॉट जिसमें खिलाड़ी गेंद को एक कोने से दूसरे कोने पर हिट करता है क्रॉसकोर्ट कहा जाता है.
ड्यूस: जब स्कोर 40-40 होता है तब उसके बाद खिलाड़ी को दो लगातार प्वाइंट जीता होता है तभी वह गेम को जीतता है.
डबल फाल्ट: अगर खिलाड़ी एक बार बेस लाइन टच करते हुए सर्विस कर देता है. उसके बाद दूसरी सर्विस में भी अगर बेसलाइन हो गया तो खिलाड़ी को प्वाइंट का नुकसान होता है.
ड्रॉप शॉट: जब खिलाड़ी सर्विस करता है और वह नेट पर गिरता है तो इसे ड्रॉप शॉट कहते हैं.
फॉल्ट: खिलाड़ी के ​सर्विस के बाद अगर गेंद कोर्ट के बाहर गिरती है तो इसे फॉल्ट कहते हैं.
फोर हैंड: जब शॉट रैकेट वाले हैंड से लगाई जाती है तो इसे फोर हैंड कहते हैं.
गेम: स्कोरिंग में गेम विनिंग प्वाइंट से जीता जाता है. सेट जीता जाता है विनिंग गेम से और मैच जीता जाता है सेट जीतने से.
गेम प्वाइंट: वह प्वाइंट जिसके जीतने के बाद गेम खत्म हो जाता है.
ग्रैंड स्लैम: टेनिस में चार बड़े टूर्नामेंट होते हैं. विम्बलडन, फ्रेंच ओपन, यूएस ओपन और आॅस्ट्रेलियाई ओपन.
लेट: जब खिलाड़ी का शॉट नेट को टच कर जाता है तो अम्पायर इसे लेट घोषित कर देता है और खिलाड़ी को दोबारा शॉट खेलना होता है.

कैसा होता है टेनिस कोर्ट:टेनिस को एक आयताकार कोर्ट में खेला जाता है. ये कोर्ट ग्रास, क्ले और हार्ड कोर्ट सरफेस का होता है. टेनिस कोर्ट 78 फीट लंबा और 27 फीट चौड़ा होता है सिंगल्स मैच के लिए जबकि 36 फीट चौड़ा होता है डबल मैच के लिए.
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर