लाल बत्ती ऑफ पर नेता फोन-बिजली के बिल चुकाना कब शुरू करेंगे?

News18Hindi
Updated: April 22, 2017, 8:36 AM IST
लाल बत्ती ऑफ पर नेता फोन-बिजली के बिल चुकाना कब शुरू करेंगे?
मोदी सरकार के आदेश के बाद देश में लाल बत्ती के कल्चर पर जरूर रोक लग गई है लेकिन नेताओं को मिलने वाली अन्य सुविधाओं का क्या? नजर डालिए नेताओं को मिलने वाली सुविधाओं और भत्तों पर एक नजर.
News18Hindi
Updated: April 22, 2017, 8:36 AM IST
पीएम मोदी और केंद्रीय कैबिनेट के फैसले के बाद देशभर में लाल बत्‍ती तो 1 मई से ऑफ हो जाएगा लेकिन कई बड़े बड़े सवाल और खड़े हो गए हैं. केंद्रीय मंत्रियों से लेकर अधिकारी तक सभी अपनी गाड़ियों से लाल और नीली बत्ती हटाने लगे हैं. पर अब जनता सवाल पूछ रही है कि आखिर ये नेता दूसरी अन्‍य सुविधाओं को छोड़कर तमाम तरह के बिल चुकाना कब शुरू करेंगे.

देश में लाल बत्ती को वीआईपी कल्चर के सबसे बड़े प्रतीक के तौर पर देखा जाता रहा है. लेकिन सिर्फ लाल बत्ती ही नहीं बल्कि सरकार से मिलने वाली कई और सुविधाएं भी वीआईपी होने का एहसास देती हैं.

politicians facilities

जनप्रतिनिधियों को कौन-कौन सी सुविधाएं मिलती हैं

1. संसद और सभी राज्यों की विधानसभा के लिए चुने जाने वाले सांसद-विधायकों को मिलनी वाली तनख्वाह पर टैक्स नहीं लगता.

2. घरेलू खर्च जैसे कपड़े धुलाई, नौकर आदि के लिए वीआईपी को कोई भुगतान नहीं करना पड़ता है.

3. किसी वीआईपी की सुरक्षा के लिए आम तौर पर औसतन 17 जवानों को तैनात किया जाता है.

4. देश में एक बड़ी सूची उन वीआईपी लोगों की होती है, जिन्हें एयरपोर्ट जैसी कई संवेदनशील जगहों पर सुरक्षा जांच में छूट मिलती है.

5. हर वीआईपी को 50 हजार यूनिट तक बिजली और पानी दोनों के किसी भी बिल का भुगतान नहीं करना पड़ता है.

6. सरकार सूचीबद्ध वीआईपी लोगों को मुफ्त सुसज्जित घर मुहैया कराती है. साथ ही इसकी मेंटिनेंस पर खर्चा सरकार की तरफ से होता है.

7. देश में जनप्रतिनिधियों को संसद और विधानसभा में सस्ती दरों पर सरकारी कैंटिनों में खाना मिलता है. इसका भुगतान भी सरकार करती है.

8.  जनप्रतिनिधियों को अतिरिक्त सुविधाओं में 3 फोन लाइन्स और 1.70 लाख लोकल कॉल्स मुफ्त मिलती है.

लाल बत्ती हटाने का आदेश, देश में वीआईपी कल्चर खत्म करने की ओर बड़ा कदम है लेकिन अन्य सुविधाओं को लेकर भी ध्यान देना बेहद जरूरी है.
First published: April 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर