कश्मीर के जीप वाले वीडियो पर राम माधव बोले- प्यार और जंग में सब जायज है


Updated: April 21, 2017, 10:40 AM IST
कश्मीर के जीप वाले वीडियो पर राम माधव बोले- प्यार और जंग में सब जायज है
स्रोत: NEWS18.com

Updated: April 21, 2017, 10:40 AM IST
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महा​सचिव और जम्मू-कश्मीर में बीजेपी और पीडीपी गठबंधन के सूत्रधार राम माधव का कश्मीर की स्थिति को लेकर कहना है कि प्यार और जंग में सबकुछ जायज है. उन्होंने हाल ही में वायरल हुए जीप वाले वीडियो के समर्थन में ये बातेें कहीं.

राम माधव ने सीएनएन-न्यूज18 के साथ खास बातचीत में कश्मीर के हालतों पर सामने आए वी​डियो पर चर्चा की. उन्होंने सेना के जवान के उस तरीके को सही बताया जिसमें एक मेजर ने एक शख्स को जीप के बोनट पर बांधा हुआ है. हाल ही में वायरल हुए इस वीडियो में एक जवान लड़के को जीप से बांधकर सेना के जत्थे के आगे ले जाया जा रहा है. सेना का कहना था कि वह एक प्रदर्शनकारी है जिसका श्रीनगर उपचुनाव के दिन पत्थरबाजों से बचने के लिए इस्तेमाल किया गया.

'हर रोज एक शव नहीं चाहते'
राम माधव ने कहा कि यह समझने की जरूरत है कि घाटी में सुरक्षा बल किस तरह की स्थिति का सामना कर रहे हैं. उन हालात में उस जवान के पास दो रास्ते थे. वो भीड़ को अन्य लोगों और सुरक्षा बलों की हत्या करने देता या अपने साथियों के साथ अंधाधुंध फायरिंग करता.

उन्होंने आगे कहा कि ये तारीफ के काबिल है कि मेजर ने दोनों में से कोई तरीका नहीं अपनाया क्योंकि इससे बड़ी संख्या में लोगों की जान चली जाती. माधव का मानना है कि इस सब के लिए अगर कोई जिम्मेदार है तो वो लोग हैं जो इस मुश्किल हालात में मदद भेजने में असफल रहे. जंग और प्यार में सबकुछ जायज होता है.

क्या सरकार मेजर को बचाने की कोशिश कर रही है, इस सवाल के जवाब में राम माधव ने कहा कि सरकार बस शांति बनाए रखना चाहती है. हम रोज एक शव नहीं चाहते जो हुर्रियत चाहता है.

गठबंधन नहीं जिम्मेदार
कश्मीर में हिंसा से निपटने के लिए बीजेपी-पीडीपी की सरकार की असफलता पर राष्ट्रीय महासचिव ने कहा कि सरकार लोगों के लिए कई विकास परियोजनाएं लेकर आ रही है.  उन्होंने माना की राज्य सरकार को इस संबंध में और सक्रिय व सावधान रहना चाहिए. इस संबंध में बेहतर होने की जरूरत है.

बीजेपी और पीडीपी गठबंधन की सफलता के सवाल पर राम माधव ने कहा कि कश्मीर के हालातों का गठबंधन से कोई संबंध नहीं है. यह देश और राष्ट्रीय एकता व संप्रभुता के लिए चुनौती है. राज्य में हो रही हिंसा राज्य सरकार से जुड़ी नहीं है.
First published: April 21, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर