पीएम मोदी के इन 5 पैतरों ने मचाई हिंदुस्तान में हल-चल

फर्स्टपोस्ट.कॉम
Updated: June 20, 2017, 9:44 AM IST
पीएम मोदी के इन 5 पैतरों ने मचाई हिंदुस्तान में हल-चल
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
फर्स्टपोस्ट.कॉम
Updated: June 20, 2017, 9:44 AM IST
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने कठोर फैसलों की वजह से हमेशा चर्चाओं में बने रहते हैं. राष्ट्रपति चुनाव के लिए रामनाथ कोविंद के नाम के ऐलान ने एक बार फिर साबित कर दिया कि पीएम मोदी के फैसले जानकारी न तो मीडिया को होती है न ही अन्य नेता को. ऐसा पहली बार नहीं है जब मोदी के किसी फैसले ने सबको चौंका दिया. इससे पहले भी कई बार कुछ इसी तरह के फैसले ले चुके हैं.

आज हम आपको कुछ ऐसे ही फैसलों से रू-ब-रू करवा रहे हैं जिन फैसलों ने मचाई थी भारत में हल-चल..

नोटबंदी

8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री ने ऐतिहासिक फैसला लिया था. जापान यात्रा से लौटने के एक दिन बाद नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 के नोट बंद करने का फैसला किया था. इसकी कई लोगों ने कठोर आलोचना भी की थी. आलोचकों ने इसे तुगलकी फरमान करार दिया था. लेकिन मोदी ने इस फैसले को भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में एक कदम करार दिया था. विपक्ष भी लगातार मोदी पर आक्रामक रुख अख्तियार किए हुए था. लेकिन पीएम मोदी अपने फैसले पर अटल रहे और जनसमर्थन की बात करें तो यूपी चुनाव में बीजेपी की जीत से साबित भी हो गया.



सर्जिकल स्ट्राइक
उरी हमले के 10 दिन बाद भारतीय जवानों ने पाक अधिकृत कश्मीर में घुस कर 38 आतंकियों को मार गिराया था. इतना ही नहीं आतंकी शिविरों को भी नेस्तोनाबूत कर दिया था. इस फैसले की जानकारी भी पहले ना तो शेयर की गई ना ही इसकी किसी को भनक लगने दी. यह फैसला भी अचानक लिया गया था. पीएम मोदी के इस फैसले का पूरे देश ने समर्थन किया था.



योगी आदित्यनाथ को यूपी का मुख्यमंत्री
यूपी में बीजेपी को मिली ऐतिहासिक जीत के बाद सबसे बड़ी चुनौती राज्य की कमान सौंपने का था. और कयास लगाए जा रहे थे कि मोदी मुख्यमंत्री पद के लिए रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा के नाम घोषित करेंगे. लेकिन इस बीच खबर आई कि यूपी के अगले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ होंगे. योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाना अपने आप में एक बड़ा फैसला था क्योंकि योगी की छवि एक कट्टर हिंदू नेता की है. वहीं यह फैसला भी अचानक लिया गया था. जिसे हम कह सकते हैं सरप्राइज मूव.

file photo


देवेंद्र फडणवीस के महाराष्ट्र और मनोहर लाल खट्टर को हरियाणा की कमान
कई वरिष्ठ नेताओं को दरकिनार कर प्रधानमंत्री ने दो बड़े राज्यों की कमान ऐसे नेताओं को सौंपी जिनका कद राजनीति में ज्यादा बड़ा नहीं था. आज वहीं दोनों नेता राजनीति में एक बड़ा नाम साबित हुए हैं. पहला नाम है महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का. महाराष्ट्र में जहां एक तरफ नितिन गडकरी जैसे वरिष्ठ नेता थे. उसमें से देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री बनाना एक बड़ा फैसला था. दूसरा नाम है हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का. हरियाणा में बीजेपी को मिली जीत के बाद राज्य की सत्ता सौंपने का काम सबसे बड़ा था. जहां सब एक तरफ अन्य वरिष्ठ नेताओं के नाम पर कयास लगा रहे थे. ऐसे में सबको दरकिनार कर प्रधानमंत्री ने गैर जाट मनोहर लाल खट्टर को सूबे की कमान सौंपी. जो कि एक बहुत बड़ा फैसला था.

राष्ट्रपति

एक बार फिर एनडीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार के लिए रामनाथ कोविंद का नाम सामने आने के बाद साबित हो गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अचानक फैसले लेते हैं. जहां एक तरफ कई लोग राष्ट्रपति के लिए लालकृष्ण आडवाणी के नाम के कयास लगा रहे थे. शिवसेना ने राष्ट्रपति उम्मीदवार के लिए संघ प्रमुख मोहन भागवत का नाम आगे कर दिया था. ऐसे में रामनाथ कोविंद पर मुहर लगाना अपने आप में बहुत बड़ा फैसला है. दूसरा रामनाथ दलित समुदाय से ताल्लुक रखते हैं. दो बार राज्यसभा सांसद रह चुके हैं. इन सभी फैसलों से साबित होता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैसले अचानक लिए जाते हैं. इसकी भनक किसी को भी नहीं होती.



तो, देखा आपने पीएम मोदी कैसे चलाए अपने मास्टर स्ट्रोकस.
First published: June 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर