स्कूल में छेड़खानी रोकने का ऐसा अजीबोगरीब तरीका, जो किसी को नहीं पच रहा

News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 5:32 PM IST
स्कूल में छेड़खानी रोकने का ऐसा अजीबोगरीब तरीका, जो किसी को नहीं पच रहा
Bengal: छेड़खानी रोकने का स्कूल का अजीब तरीका
News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 5:32 PM IST
 

पश्चिम बंगाल के बीरभूम में एक जाने माने स्कूल ने लड़कियों के साथ छेड़खानी रोकने के लिए ऐसा अजीबोगरीब तरीका खोज निकाला है कि हर कोई हैरान है. स्कूल ने लड़के और लड़कियों से अलग अलग दिन स्कूल आने को कहा है.  यानि सप्ताह में तीन दिन लड़कियों की पढाई होगी तो तीन दिन लड़के स्कूल आएंगे.

वीरभूम के इस स्कूल का नाम है बरहरा हाईस्कूल. ये डेढ़ सौ साल पुराना है. ये को-एड स्कूल है. पिछले दिनों यहां की बड़ी क्लासेज में लड़कियों से छेड़खानी की घटनाओं की लगातार शिकायतें आ रही थीं.

हैरतअंगेज योजना 

ये योजना फिलहाल स्कूल के कक्षा 11 और 12 के स्टूडेंट्स पर ही लागू होगी. इन क्लासेज के लड़के सोेमवार, बुधवार और शुक्रवार को स्कूल आ सकेंगे तो लड़कियों को स्कूल में मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को पढ़ाया जाएगा. 159 साल पुराने इस स्कूल को लगता है कि इस कदम के बाद स्कूल में किसी भी तरह के उत्पीड़न को रोका जा सकेगा.

लगातार आ रही थीं शिकायतें

इस स्कूल में क्लास 11 और 12 में 439 स्टूडेंट्स हैं, जिसमें 257 लड़कियां हैं. स्कूल हेडमास्टर कंचन अधिकारी का कहना है, हमारे पास इन दोनों क्लास से कई शिकायतें आईं थीं. शिकायतों में कहा जा रहा था कि लड़के दिक्कत पैदा कर रहे हैं तो हमें ऐसा फैसला लेने के लिए बाध्य होना पड़ा.

लेकिन टीचर हैं फिक्रमंद 

हेडमास्टर का ये भी कहना है कि ये फैसला स्थायी नहीं है अगर छात्रों ने अपना बर्ताव ठीक कर लिया तो हम इसे वापस भी ले सकते हैं. हालांकि इस स्कूल के टीचर भी महसूस करते हैं कि ये योजना छात्रों की पढाई पर बहुत उल्टा असर डाल सकती है. इसके सही समय पर सिलेबस पूरा कर पाना भी मुश्किल हो जाएगा.

पोर्न वीडियो देखने की भी जांच 

इसी स्कूल के लड़कों के खिलाफ क्लासरूम में पोर्न वीडियो देखने की शिकायत के बाद बंगाल के सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड ने जांच के आदेश दिए हैं.

 

 
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर