पाक मीडिया ने यूपी सीएम योगी को बताया 'हिंदू कट्टरपंथी', विवादित बयान रहे चर्चा में

News18India
Updated: March 19, 2017, 6:09 PM IST
पाक मीडिया ने यूपी सीएम योगी को बताया 'हिंदू कट्टरपंथी', विवादित बयान रहे चर्चा में
कई इंटरनेशनल न्यूज वेबसाइट्स ने योगी की कट्टर छवि और प्रशासनिक कार्यों की अनुभवहीनता को लेकर सवाल उठाए हैं.
News18India
Updated: March 19, 2017, 6:09 PM IST
गोरखपुर से सांसद योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है. उनके साथ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा समेत 46 मंत्रियों ने शपथ ली. इनमें 22 कैबिनेट, 9 स्वतंत्र प्रभार, 15 राज्यमंत्रियों ने शपथ ली. बता दें कि आदित्यनाथ को सीएम बनाए जाने पर दूसरी पार्टियों में नाराजगी है.

कई इंटरनेशनल न्यूज वेबसाइट्स ने योगी की कट्टर छवि और प्रशासनिक कार्यों की अनुभवहीनता को लेकर सवाल उठाए हैं. सोशल मीडिया पर भी ये सवाल उठाए जा रहे हैं कि बीजेपी ने किस आधार पर योगी को सीएम पद के लिए चुना है, जबकि विकास के कामों से उनका संबंध नहीं है. पाकिस्तानी मीडिया में भी योगी के सीएम बनने पर तीखी प्रतिक्रियाएं दी गई हैं..

डॉन न्यूज

पाकिस्तान के प्रमुख अख़बार डॉन ने भी अपनी वेबसाइट पर योगी को सीएम बनाए जाने की ख़बर प्रमुखता से प्रकाशित की. इसकी हेडिंग है, 'कट्टर हिंदू बना भारत के सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्य का मुख्यमंत्री.' यही नहीं डॉन ने अपने आर्टिकल में आदित्यनाथ को कट्टर हिंदुत्व विचारधारा मानने और मुस्लिम विरोधी बयान देने वाला बताया है. इसमें यह भी लिखा है कि योगी एक चरमपंथी संस्था हिंदू युवा वाहिनी भी चलाते हैं, जिसपर साम्प्रदायिक तनाव बढ़ाने के लिए आरोप लगते हैं.

Dawn

बीबीसी पाकिस्तान ने योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने के ऐलान के बाद उनके भड़काऊ बयानों के लिस्ट के शक्ल में एक रिपोर्ट लिखी जिसमें लव जेहाद से लेकर मुस्लिम आबादी के बारे योगी के बयान भी शामिल थे.

पाकिस्तानी अखबार द न्यूज ने योगी आदित्यनाथ की यूपी के सीएम बनने की खबर में हेडलाइन में लिखा - मुस्लिम विरोधी कट्टरपंथी बनेगा यूपी का सीएम .

'द नेशन' लिखा है कि,यूपी की अगुवाई के लिए मोदी की पसंद मुस्लिम विरोधी नेता योगी आदित्यनाथ . इस रिपोर्ट में योगी आदित्यनाथ के भड़काऊ बयानों से लेकर उनपे दर्ज मुकदमों का भी जिक्र है.



वहीं पाकिस्तानी न्यूज चैनल एआरवाई ने भी इस पर एक रिपोर्ट टेलीकॉस्ट की. जिसमें कहा गया कि शाहरुख खान को धमकियां देने वाले शख्स को बीजेपी ने उत्तर प्रदेश का सीएम नियुक्त कर दिया है. आपको बता दें पाकिस्तान में शाहरुख खान उतनी ही लोकप्रिय हैं जितने भारत में. ऐसे में उनके खिलाफ भारतीय नेताओं का कोई दिया गया बयान वहां की मीडिया की सुर्खियों में बदल जाता है. ऐसे में योगी आदित्यनाथ को शाहरुख खान का विरोधी पेश करके खबर दिखाना भी टीआरपी लाने का तरीका ही भर है.

न्यूयॉर्क टाइम्स

न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा है, 'फायरब्रैंड हिंदू पुरोहित योगी आदित्यनाथ को होंगे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री.'

न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, लगातार मुस्लिम विरोधी विचार फैलाने के आरोपी योगी को यूपी के सीएम चुनने का फैसला राजनैतिक समीक्षकों के लिए चौंकाने वाला है. वेबसाइट ने आदित्यनाथ द्वारा भारत को 'हिंदू राष्ट्र' बनाए जाने और राम मंदिर बनाए जाने की परिकल्पना का भी जिक्र किया है.

Ny-Times

हफिंगटन पोस्ट

हफिंगटन पोस्ट ने लिखा कि योगी आदित्यनाथ unapologetic (निर्लज्ज) pro-Hindutva विचारधारा वाली शख्सियत हैं, जो 'घर वापसी' जैसे विवाद कार्यक्रम का प्रमुख चेहरा रहे हैं. 2002 में उन्होंने हिंदू युवा वाहिनी की स्थापना की. वे लव जिहाद के कारण भी चर्चा में रह चुके हैं. वेबसाइट ने लिखा कि 2014 में इलेक्शन कमीशन के सामने दिए हलफनामे में दंगे, हत्या की कोशिश और धमकाने जैसे गंभीर आरोप शामिल हैं.

Huffpost-1

हफिंगटन पोस्ट

हफिंगटन पोस्ट ने योगी आदित्यनाथ के 5 विवादित बयानों को भी प्रमुखता से प्रकाशित किया है. इनमें ये बयान शामिल हैं :

1. पश्चिमी उत्तर प्रदेश की कश्मीर से तुलना

2. शाहरुख ख़ान की तुलना हाफिज सईद से करना

3. मदर टेरेसा को धर्मपरिवर्तन करने वाले मूवमेंट का हिस्सा बताना

4. जिन्हें सूर्य नमस्कार नहीं आता, वे समुद्र में डूब जाएं

5. ट्रम्प द्वारा सात मुस्लिम देशों के लोगों की अमेरिका में एंट्री का समर्थन

Huffpost-2

बीबीसी हिंदी

बीबीसी हिंदी ने एक विश्लेषण में लिखा है, 'उत्तर प्रदेश की आबादी में 18 ले 20 फीसदी मुसलमान हैं. इतने बड़े समुदाय की उपेक्षा करके आप प्रदेश को कैसे आगे बढ़ा पाएंगे. उनका भरोसा कैसे जीतेंगे. कल तक जिस तरह से योगी आदित्यनाथ मुसलमानों के खिलाफ बोलते रहे हैं, वैसे में सबका साथ सबका विकास के एजेंडे को कैसे आगे बढ़ाएंगे? ये संदेह तो बना ही रहेगा. मु्स्लिम समाज के लोगों में एक तरह का खौफ़ पहले से रहा है और अब वह ख़ौफ़ बढ़ेगा ही.'

BBC-Hindi
First published: March 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर