उत्‍तर-प्रदेश हुआ रोशन, बचे छह गांवों में भी जल्‍द पहुंचेगी बिजली

News18India
Updated: May 19, 2017, 8:10 PM IST
उत्‍तर-प्रदेश हुआ रोशन, बचे छह गांवों में भी जल्‍द पहुंचेगी बिजली
कॉर्न या मकई - गर्मियों में मीठी ताज़ी कॉर्न से बढ़कर और कुछ नहीं. कॉर्न में पाया जाने वाला एंटी ऑक्सीडेंट नेचुरल सनग्लास की तरह कार्य करता है.
News18India
Updated: May 19, 2017, 8:10 PM IST
भारत के सबसे बड़े राज्‍य उत्‍तर-प्रदेश के गांवों से अंधेरा छंट गया है. यूपी के करीब 1500 गावों को रोशन किया जा चुका है, वहीं महज छह गांव ही बाकी बचे हैं जहां लोगों को बिजली के बिना गुजारा करना पड़ रहा है.  जबकि त्रिपुरा और हिमाचल प्रदेश के सौ फीसदी गांवों को विद्युतीकृत किया जा चुका है.

source: PIB


पीआईबी की ओर से किए गए ट्वीट में बताया गया कि केद्रीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने एक बुकलेट जारी कर 18 मई, 2017 तक गांवों के विद्युतीकरण की स्‍टेटस रिपोर्ट पेश की है. जिसमें बताया गया है कि केंद्र सरकार की दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत 15 मई 2017 तक 13,469 गांवों का बिजलीकरण किया जा चुका है.



योजना से लाभान्वित उत्‍तर प्रदेश में छह, राजस्‍थान में सिर्फ एक, पश्चिम बंगाल में पांच और नागालैंड में सिर्फ दो गांव बिजली से दूर हैं. अगले कुछ दिनों में इन गांवों में भी बिजली पहुंचा दी जाएगी.

बाकी बचे गांवों में सबसे ज्‍यादा अरुणाचल प्रदेश के 1224 और झारखंड के 560 गांव हैं जो बिजली कीट बाट जोह रहे हैं. वहीं अगले एक साल में केंद्र सरकार को जम्मू एवं कश्मीर के 102, छत्तीसगढ़ में 316 गांव, मेघालय के 224, असम में 532, ओडिशा में 534 और बिहार के 319, गांवों को भी रोशन करना है.



आंकड़ों पर गौर करें तो पिछले तीन सालों में सबसे ज्‍यादा बिहार, असम, झारखंड और उड़ीसा के गांवों का विद्युतीकरण किया गया है. वहीं बिजलीकरण करने के साथ ही 30 अप्रैल 2017 तक 256.81 लाख बीपीएल परिवारों को निशुल्‍क बिजली कनेक्‍शन भी दिए गए हैं.

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 1000 दिनों के भीतर देशभर के गांवों का विद्युतीकरण करने के लिए 2014 में दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना शुरू की गई थी. जिसमें देशभर के 18,452 गांवों को चिह्नित किया गया था, जिनमें बिजली नहीं थी. जारी आंकड़ों के मुताबिक अब महज 4,039 गांव बिजली की रोशनी से दूर हैं.
First published: May 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर