कैसे चुने गए अब तक राष्ट्रपति!

Updated: March 5, 2015, 6:57 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

आजाद भारत के इतिहास में 1952 से अब तक राष्ट्रपति के चुनाव में सिर्फ एक उम्मीदवार निर्विरोध चुना गया है। वर्ष 1977 में नीलम संजीव रेड्डी निर्विरोध निर्वाचित हुए थे, जबकि के आर नारायणन को सर्वाधिक मत मिले थे, जो नौ लाख 56,290 मतों से चुनाव जीते थे। देखें किस राष्ट्रपति को मिले कितने वोट...
आजाद भारत के इतिहास में 1952 से अब तक राष्ट्रपति के चुनाव में सिर्फ एक उम्मीदवार निर्विरोध चुना गया है। वर्ष 1977 में नीलम संजीव रेड्डी निर्विरोध निर्वाचित हुए थे, जबकि के आर नारायणन को सर्वाधिक मत मिले थे, जो नौ लाख 56,290 मतों से चुनाव जीते थे। देखें किस राष्ट्रपति को मिले कितने वोट...
1962: डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन, 13 मई को पदभार ग्रहण किया। इनको 5,53,067 वोट मिले। चौधरी हरी राम और यमुना प्रसाद त्रिशुलिया को क्रमश: 6,341 और 3,537 मत मिले।
1962: डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन, 13 मई को पदभार ग्रहण किया। इनको 5,53,067 वोट मिले। चौधरी हरी राम और यमुना प्रसाद त्रिशुलिया को क्रमश: 6,341 और 3,537 मत मिले।
1967: डॉ. जाकिर हुसैन, 13 मई को पदभार ग्रहण किया। 17 उम्मीदवारों में से डॉ. जाकिर हुसैन को सर्वाधिक 4,71,244 मत मिले। तीन मई 1969 को इनके आकस्मिक निधन के बाद संविधान के अनुच्छेद 65 (1) के तहत उप राष्ट्रपति वी.वी. गिरि को कार्यकारी राष्ट्रपति बनाया गया। इन्होंने 20 जुलाई 1969 को पद से इस्तीफा दिया।
1967: डॉ. जाकिर हुसैन, 13 मई को पदभार ग्रहण किया। 17 उम्मीदवारों में से डॉ. जाकिर हुसैन को सर्वाधिक 4,71,244 मत मिले। तीन मई 1969 को इनके आकस्मिक निधन के बाद संविधान के अनुच्छेद 65 (1) के तहत उप राष्ट्रपति वी.वी. गिरि को कार्यकारी राष्ट्रपति बनाया गया। इन्होंने 20 जुलाई 1969 को पद से इस्तीफा दिया।
1969: वी.वी. गिरि, 24 अगस्त को राष्ट्रपति बने। 15 प्रत्याशियों में से गिरि को सर्वाधिक 4,01,515 वोट, जबकि डॉ. नीलम संजीव रेड्डी को 3,13,548 मत मिले।
1969: वी.वी. गिरि, 24 अगस्त को राष्ट्रपति बने। 15 प्रत्याशियों में से गिरि को सर्वाधिक 4,01,515 वोट, जबकि डॉ. नीलम संजीव रेड्डी को 3,13,548 मत मिले।
1974: फखरुद्दीन अली अहमद, 24 अगस्त को पदभार ग्रहण किया। उन्हें 7,65,587 वोट मिले, जबकि त्रिदीब चौधरी को 1,89,196 मत मिले।
1974: फखरुद्दीन अली अहमद, 24 अगस्त को पदभार ग्रहण किया। उन्हें 7,65,587 वोट मिले, जबकि त्रिदीब चौधरी को 1,89,196 मत मिले।
1977: नीलम संजीव रेड्डी, 11 फरवरी को फखरुद्दीन की असामयिक मौत के बाद तत्कालीन उपराष्ट्रपति बी.डी. जट्टी को कार्यकारी राष्ट्रपति बनाया गया। राष्ट्रपति की मौत या इस्तीफे के बाद छह महीने के अंदर राष्ट्रपति चुनाव कराया जाता है। 37 उम्मीदवारों ने पर्चे दाखिल किए। जांच में रिटर्निंग अधिकारी ने रेड्डी के अलावा सभी 36 लोगों के पर्चे रद्द कर दिए। इस तरह रेड्डी निर्विरोध चुने गए।
1977: नीलम संजीव रेड्डी, 11 फरवरी को फखरुद्दीन की असामयिक मौत के बाद तत्कालीन उपराष्ट्रपति बी.डी. जट्टी को कार्यकारी राष्ट्रपति बनाया गया। राष्ट्रपति की मौत या इस्तीफे के बाद छह महीने के अंदर राष्ट्रपति चुनाव कराया जाता है। 37 उम्मीदवारों ने पर्चे दाखिल किए। जांच में रिटर्निंग अधिकारी ने रेड्डी के अलावा सभी 36 लोगों के पर्चे रद्द कर दिए। इस तरह रेड्डी निर्विरोध चुने गए।
1982: ज्ञानी जैल सिंह, 25 जुलाई को राष्ट्रपति बने। जैल सिंह को 7,54,113 और एच. आर. खन्ना को 2,82,685 मत मिले।
1982: ज्ञानी जैल सिंह, 25 जुलाई को राष्ट्रपति बने। जैल सिंह को 7,54,113 और एच. आर. खन्ना को 2,82,685 मत मिले।
1987: आर. वेंकटरमन। 25 जुलाई को राष्ट्रपति बने। इन्हें 7,40,148 मत मिले।
1987: आर. वेंकटरमन। 25 जुलाई को राष्ट्रपति बने। इन्हें 7,40,148 मत मिले।
1992: शंकर दयाल शर्मा। 25 जुलाई को राष्ट्रपति बने। चार प्रत्याशियों में डॉ. शर्मा को 6,75,864 मत मिले।
1992: शंकर दयाल शर्मा। 25 जुलाई को राष्ट्रपति बने। चार प्रत्याशियों में डॉ. शर्मा को 6,75,864 मत मिले।
1997: के. आर. नारायणन। 25 जुलाई को पदभार ग्रहण किया। दोनों उम्मीदवारों में से नारायणन और टी. एन. शेषन को क्रमश: 9,56,290 और 5,0631 मत मिले।
1997: के. आर. नारायणन। 25 जुलाई को पदभार ग्रहण किया। दोनों उम्मीदवारों में से नारायणन और टी. एन. शेषन को क्रमश: 9,56,290 और 5,0631 मत मिले।
2002: डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम, 25 जुलाई को डॉ. कलाम राष्ट्रपति बने। कुल दो प्रत्याशियों में कलाम को 9,22,884 वोट मिले। वहीं लेफ्ट समर्थित उम्मीदवार कैप्टन लक्ष्मी सहगल को 1,07,366 मत मिले।
2002: डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम, 25 जुलाई को डॉ. कलाम राष्ट्रपति बने। कुल दो प्रत्याशियों में कलाम को 9,22,884 वोट मिले। वहीं लेफ्ट समर्थित उम्मीदवार कैप्टन लक्ष्मी सहगल को 1,07,366 मत मिले।
2007: प्रतिभादेवी सिंह पाटिल, 25 जुलाई को देश की पहली महिला राष्ट्रपति बनीं। संप्रग समर्थित प्रतिभा पाटिल को 6,38,116 और राजग समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार भैरोसिंह शेखावत को 3,31,306 मत मिले।
2007: प्रतिभादेवी सिंह पाटिल, 25 जुलाई को देश की पहली महिला राष्ट्रपति बनीं। संप्रग समर्थित प्रतिभा पाटिल को 6,38,116 और राजग समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार भैरोसिंह शेखावत को 3,31,306 मत मिले।
1952: डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, 13 मई को पदासीन हुए। पहले राष्ट्रपति को पांच लाख सात हजार चार सौ वोट मिले, जबकि केटी शाह को 92 हजार 827 वोट मिले। 1957 में डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, 13 मई को दूसरी बार राष्ट्रपति बने। इन्हें 4,59,698 वोट मिले। नागेंद्र नारायण दास एवं चौधरी हरी राम को क्रमश: 2000 एवं 2672 वोट मिले।
1952: डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, 13 मई को पदासीन हुए। पहले राष्ट्रपति को पांच लाख सात हजार चार सौ वोट मिले, जबकि केटी शाह को 92 हजार 827 वोट मिले। 1957 में डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, 13 मई को दूसरी बार राष्ट्रपति बने। इन्हें 4,59,698 वोट मिले। नागेंद्र नारायण दास एवं चौधरी हरी राम को क्रमश: 2000 एवं 2672 वोट मिले।

First published: June 15, 2012
facebook Twitter google skype whatsapp