नहीं रहे दारा सिंह

Updated: March 5, 2015, 7:06 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

‘रुस्तम ए हिंद’ दारा सिंह का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया है।
‘रुस्तम ए हिंद’ दारा सिंह का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया है।
गुरुवार सुबह साढ़े सात बजे ‘रुस्तम ए हिंद’ दारा सिंह ने आखिरी सांसे ली है।
गुरुवार सुबह साढ़े सात बजे ‘रुस्तम ए हिंद’ दारा सिंह ने आखिरी सांसे ली है।
मालूम हो कि दवाओं के लगातार बेअसर साबित होने के बाद दारा को आज ही उनके घर ले जाया गया था।
मालूम हो कि दवाओं के लगातार बेअसर साबित होने के बाद दारा को आज ही उनके घर ले जाया गया था।
परिवारजनों और बेटे बिंदू दारा सिंह की इच्छा थी कि दारा सिंह घर पर ही अंतिम सांस लें।
परिवारजनों और बेटे बिंदू दारा सिंह की इच्छा थी कि दारा सिंह घर पर ही अंतिम सांस लें।
बुधवार को उन्हें कोकिलाबेन धीरूभाई अम्बानी अस्पताल से जुहू स्थित उनके घर भेज दिया गया।
बुधवार को उन्हें कोकिलाबेन धीरूभाई अम्बानी अस्पताल से जुहू स्थित उनके घर भेज दिया गया।
उन्हें डायलिसिस पर रखा गया था।
उन्हें डायलिसिस पर रखा गया था।
84 वर्षीय कलाकार को वेंटीलेटर, अन्य चिकित्सा सुविधाओं, नर्स और डाक्टरों के साथ घर भेजा गया था।
84 वर्षीय कलाकार को वेंटीलेटर, अन्य चिकित्सा सुविधाओं, नर्स और डाक्टरों के साथ घर भेजा गया था।
परिवार की इच्छा थी कि दारा सिंह अपने जीवन के अंतिम समय घर में बिताएं।
परिवार की इच्छा थी कि दारा सिंह अपने जीवन के अंतिम समय घर में बिताएं।
दारा सिंह को शनिवार को अस्पताल में दाखिल कराया गया था।
दारा सिंह को शनिवार को अस्पताल में दाखिल कराया गया था।
दारा को कुश्ती के लिए 'रुस्तम-ए-हिंद' का खिताब मिला था।
दारा को कुश्ती के लिए 'रुस्तम-ए-हिंद' का खिताब मिला था।
उन्होंने 1952 में फिल्म 'संगदिल' से अभिनय के क्षेत्र में कदम रखा था।
उन्होंने 1952 में फिल्म 'संगदिल' से अभिनय के क्षेत्र में कदम रखा था।
उन्होंने 'वतन से दूर', 'रुस्तम-ए-बगदाद', 'शेर दिल', 'सिकंदर-ए-आजम', 'राका', 'मेरा नाम जोकर', 'धरम करम' और 'मर्द' सहित कई अन्य फिल्मों में अभिनय किया।
उन्होंने 'वतन से दूर', 'रुस्तम-ए-बगदाद', 'शेर दिल', 'सिकंदर-ए-आजम', 'राका', 'मेरा नाम जोकर', 'धरम करम' और 'मर्द' सहित कई अन्य फिल्मों में अभिनय किया।
उन्होंने अंतिम बार 2007 में आई 'जब वी मेट' में अभिनय किया था।
उन्होंने अंतिम बार 2007 में आई 'जब वी मेट' में अभिनय किया था।
उन्होंने टीवी धारावाहिकों में भी अभिनय किया।
उन्होंने टीवी धारावाहिकों में भी अभिनय किया।
'रामायण' में निभाई उनकी हनुमान की भूमिका ने उन्हें काफी लोकप्रियता दिलाई थी।
'रामायण' में निभाई उनकी हनुमान की भूमिका ने उन्हें काफी लोकप्रियता दिलाई थी।
शुक्रवार की शाम पांच बजे दारा सिंह को अंतिम विदाई दी गई। इस मौके पर हजारों की तादाद में उनके चाहने वाले मौजूद थे। शाम साढे़ चार बजे विले पार्ले के श्मशान घाट में उन्हें पंच तत्व में विलीन कर दिया गया।
शुक्रवार की शाम पांच बजे दारा सिंह को अंतिम विदाई दी गई। इस मौके पर हजारों की तादाद में उनके चाहने वाले मौजूद थे। शाम साढे़ चार बजे विले पार्ले के श्मशान घाट में उन्हें पंच तत्व में विलीन कर दिया गया।
शुक्रवार की शाम पांच बजे दारा सिंह को अंतिम विदाई दी गई। इस मौके पर हजारों की तादाद में उनके चाहने वाले मौजूद थे। शाम साढे़ चार बजे विले पार्ले के श्मशान घाट में उन्हें पंच तत्व में विलीन कर दिया गया।
शुक्रवार की शाम पांच बजे दारा सिंह को अंतिम विदाई दी गई। इस मौके पर हजारों की तादाद में उनके चाहने वाले मौजूद थे। शाम साढे़ चार बजे विले पार्ले के श्मशान घाट में उन्हें पंच तत्व में विलीन कर दिया गया।
शुक्रवार की शाम पांच बजे दारा सिंह को अंतिम विदाई दी गई। इस मौके पर हजारों की तादाद में उनके चाहने वाले मौजूद थे। शाम साढे़ चार बजे विले पार्ले के श्मशान घाट में उन्हें पंच तत्व में विलीन कर दिया गया।
शुक्रवार की शाम पांच बजे दारा सिंह को अंतिम विदाई दी गई। इस मौके पर हजारों की तादाद में उनके चाहने वाले मौजूद थे। शाम साढे़ चार बजे विले पार्ले के श्मशान घाट में उन्हें पंच तत्व में विलीन कर दिया गया।

First published: July 12, 2012
facebook Twitter google skype whatsapp