ख्वाजा के दरबार में बॉलीवुड बैन!

First published: July 23, 2012, 11:02 AM IST | Updated: March 5, 2015, 7:13 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp
ख्वाजा के दरबार में बॉलीवुड बैन!
राजस्थान के अजमेर में सूफी संत हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में फिल्म कलाकारों और धारावाहिक निर्माताओं द्वारा उनकी फिल्मों एवं धारावाहिकों की सफलता के लिए सजदा एवं मन्नत मांगने को लेकर दरगाह दीवान सैय्यद जैनुअल आबेदीन के बयान से एक नया विवाद पैदा हो गया है।

[caption id="attachment_316209"]राजस्थान के अजमेर में सूफी संत हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में फिल्म कलाकारों और धारावाहिक निर्माताओं द्वारा उनकी फिल्मों एवं धारावाहिकों की सफलता के लिए सजदा एवं मन्नत मांगने को लेकर दरगाह दीवान सैय्यद जैनुअल आबेदीन के बयान से एक नया विवाद पैदा हो गया है।
</p><p>(तस्वीर-अजय देवगन) राजस्थान के अजमेर में सूफी संत हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में फिल्म कलाकारों और धारावाहिक निर्माताओं द्वारा उनकी फिल्मों एवं धारावाहिकों की सफलता के लिए सजदा एवं मन्नत मांगने को लेकर दरगाह दीवान सैय्यद जैनुअल आबेदीन के बयान से एक नया विवाद पैदा हो गया है।

(तस्वीर-अजय देवगन)[/caption][caption id="attachment_316210"]उन्होंने ऐसे संवेदनशील मुद्दे पर इस्लामिक विद्धावों और शरीअत के जानकारों की खामोशी चिंताजनक बताते हुए देश के प्रमुख उलेमाओं को इस मसले पर शरीअत के मुताबिक खुलकर अपनी राय का इंतजार करने की अपील की जिससे मुसलमों के इतने बडे धर्म स्थल पर हो रहे गैर शरई कार्यों पर अंकुश लग सके।
</p><p>(तस्वीर-अमिताभ बच्चन) उन्होंने ऐसे संवेदनशील मुद्दे पर इस्लामिक विद्धावों और शरीअत के जानकारों की खामोशी चिंताजनक बताते हुए देश के प्रमुख उलेमाओं को इस मसले पर शरीअत के मुताबिक खुलकर अपनी राय का इंतजार करने की अपील की जिससे मुसलमों के इतने बडे धर्म स्थल पर हो रहे गैर शरई कार्यों पर अंकुश लग सके।

(तस्वीर-अमिताभ बच्चन)[/caption][caption id="attachment_316211"]ख्वाजा साहब के वंशज एवं दरगाह दीवान सैय्यद आबेदीन के इस बयान पर खादिमों और उनकी संस्था अंजुमन के पदाधिकारियों ने तीखा विरोध व्यक्त करते हुये इसे सस्ती लोकप्रियता पाने का हथकंडा बताया है।
</p><p>(तस्वीर-गोविंदा) ख्वाजा साहब के वंशज एवं दरगाह दीवान सैय्यद आबेदीन के इस बयान पर खादिमों और उनकी संस्था अंजुमन के पदाधिकारियों ने तीखा विरोध व्यक्त करते हुये इसे सस्ती लोकप्रियता पाने का हथकंडा बताया है।

(तस्वीर-गोविंदा)[/caption][caption id="attachment_316212"]अंजुमन सैयदजादगान के पूर्व सचिव और खादिम सरवर चिश्ती ने दरगाह दीवान के बयान पर आपत्ति जताते हुए कहा कि इस दरगाह में इस तरह का कोई भेदभाव नहीं है। 
</p><p>(तस्वीर-संजय दत्त) अंजुमन सैयदजादगान के पूर्व सचिव और खादिम सरवर चिश्ती ने दरगाह दीवान के बयान पर आपत्ति जताते हुए कहा कि इस दरगाह में इस तरह का कोई भेदभाव नहीं है।

(तस्वीर-संजय दत्त)[/caption][caption id="attachment_316213"]यहां हर धर्म के लोग आते है और मन्नतों की झोलियां फैलाते है। उन्होंने कहा कि जियारत कराने का हक केवल खादिमों का है।
</p><p>(तस्वीर-कंगना रणावत) यहां हर धर्म के लोग आते है और मन्नतों की झोलियां फैलाते है। उन्होंने कहा कि जियारत कराने का हक केवल खादिमों का है।

(तस्वीर-कंगना रणावत)[/caption][caption id="attachment_316214"]मुराद और दुआ व्यक्ति के निजी मामले हैं। कौन क्या मांग रहा है यह कैसे निश्चित किया जा सकता है।
</p><p>(तस्वीर-एकता कपूर) मुराद और दुआ व्यक्ति के निजी मामले हैं। कौन क्या मांग रहा है यह कैसे निश्चित किया जा सकता है।

(तस्वीर-एकता कपूर)[/caption][caption id="attachment_316215"]दरगाह दीवान को इस तरह के मुद्दे उठाने के बजाय जायरीनों की सुविधा की ओर ध्यान देना चाहिए।
</p><p>(तस्वीर-एकता कपूर) दरगाह दीवान को इस तरह के मुद्दे उठाने के बजाय जायरीनों की सुविधा की ओर ध्यान देना चाहिए।

(तस्वीर-एकता कपूर)[/caption][caption id="attachment_316216"]इसलिए दरगाह दीवान को इस मामले में बोलने का कोई हक नहीं है।
</p><p>उन्होंने कहा कि दरगाह दीवान अपने आप को दरगाह का मुखिया प्रदर्शित करना चाहते हैं। 
</p><p>(तस्वीर-अभिषेक बच्चन) इसलिए दरगाह दीवान को इस मामले में बोलने का कोई हक नहीं है।

उन्होंने कहा कि दरगाह दीवान अपने आप को दरगाह का मुखिया प्रदर्शित करना चाहते हैं।

(तस्वीर-अभिषेक बच्चन)[/caption][caption id="attachment_316217"]जबकि दरगाह ख्वाजा अधिनियम 1955 में साफ है कि खादिम दरगाह दीवान एवं दरगाह कमेटी के अपने अपने कार्यक्षेत्र निर्धारित है। 
</p><p>(तस्वीर-एकता कपूर) जबकि दरगाह ख्वाजा अधिनियम 1955 में साफ है कि खादिम दरगाह दीवान एवं दरगाह कमेटी के अपने अपने कार्यक्षेत्र निर्धारित है।

(तस्वीर-एकता कपूर)[/caption][caption id="attachment_316218"]अधिनियम के अनुसार दरगाह दीवान मुलाजिम है और उन्हें दो सौ रूपये प्रतिमाह मानदेय मिलता है।
</p><p>(तस्वीर-हिमेश रेशमिया) अधिनियम के अनुसार दरगाह दीवान मुलाजिम है और उन्हें दो सौ रूपये प्रतिमाह मानदेय मिलता है।

(तस्वीर-हिमेश रेशमिया)[/caption][caption id="attachment_316219"]अंजुमन सैयद जादगान के सचिव वाहिद हुसैन अंगारा ने कहा कि ख्वाजा साहब के दरबार में हर रोज लाखों जायरीन जियारत के लिए आते हैं। 
</p><p>(तस्वीर:कंगना रणावत) अंजुमन सैयद जादगान के सचिव वाहिद हुसैन अंगारा ने कहा कि ख्वाजा साहब के दरबार में हर रोज लाखों जायरीन जियारत के लिए आते हैं।

(तस्वीर:कंगना रणावत)[/caption][caption id="attachment_316220"]अंजुमन शेखजादगान के सह सचिव एस नसीम अहमद चिश्ती ने कहा कि ख्वाजा साहब का दरबार सभी 36 कौमों के लिए खुला है।
</p><p>(तस्वीर-हिमेश रेशमिया) अंजुमन शेखजादगान के सह सचिव एस नसीम अहमद चिश्ती ने कहा कि ख्वाजा साहब का दरबार सभी 36 कौमों के लिए खुला है।

(तस्वीर-हिमेश रेशमिया)[/caption][caption id="attachment_316221"]हर व्यक्ति अपनी अकीदत के लिए यहां आता है। उसकी मन्नत और दुआ पर आपत्ति करना सही नहीं है।
</p><p>(तस्वीर-कटरीना कैफ) हर व्यक्ति अपनी अकीदत के लिए यहां आता है। उसकी मन्नत और दुआ पर आपत्ति करना सही नहीं है।

(तस्वीर-कटरीना कैफ)[/caption][caption id="attachment_316222"]दरगाह दीवान जैनुअल आबेदीन ने एक बयान जारी कर फिल्मी कलाकरों निर्माता और निर्देशकों द्वारा फिल्मों और धारावाहिकों की सफलता के लिए मन्नत मांगने को इस्लामी शरियत और सूफीवाद के मूल सिद्धांतों के खिलाफ बताते हुए ऐसे कृत्यों को नाकाबिले बर्दाश्त बताया है। 
</p><p>(तस्वीर-इमरान हाशमी) दरगाह दीवान जैनुअल आबेदीन ने एक बयान जारी कर फिल्मी कलाकरों निर्माता और निर्देशकों द्वारा फिल्मों और धारावाहिकों की सफलता के लिए मन्नत मांगने को इस्लामी शरियत और सूफीवाद के मूल सिद्धांतों के खिलाफ बताते हुए ऐसे कृत्यों को नाकाबिले बर्दाश्त बताया है।

(तस्वीर-इमरान हाशमी)[/caption][caption id="attachment_316223"]वहीं, बॉलीवुड कलाकार रजा मुराद का कहना है कि ये जायरीनों और ख्वाजा के बीच का मामला है।
</p><p>(तस्वीर-काजोल) वहीं, बॉलीवुड कलाकार रजा मुराद का कहना है कि ये जायरीनों और ख्वाजा के बीच का मामला है।

(तस्वीर-काजोल)[/caption]

facebook Twitter google skype whatsapp