दया की पहाड़ी


Updated: March 5, 2015, 8:07 PM IST
दया की पहाड़ी
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)

Updated: March 5, 2015, 8:07 PM IST
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात  जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
सऊदी अरब के धार्मिक शहर मक्का के निकट हिल ऑफ अरफात जिसको दया का पहाड़ भी कहा जाता है पर प्रार्थना करते मुस्लिम श्रद्धालु। सऊदी अधिकारियों के मुताबिक करीब 34 लाख श्रद्धालुओं ने इस वर्ष मक्का-मदीना की यात्रा की जिनमें से 17 लाख विदेश से थे। (एपी)
First published: October 28, 2012
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर