चिटफंड के घोटालेबाजों में बीजेपी मंत्री का दामाद भी

News18India

Updated: July 4, 2011, 4:20 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

भोपाल। मध्यप्रदेश में एक हजार करोड़ रुपये के चिटफंड घोटाले के तार बीजेपी नेताओं से जुड़ गए हैं। प्रदेश के गृहराज्य मंत्री नारायण सिंह कुशवाह के दामाद एक चिटफंड कंपनी के मालिक हैं और फरार चल रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा के भी केएमजी चिटफंड कंपनी के मालिक से करीबी रिश्ते बताए जा रहे हैं।

जालसाजी की आरोपी एक कंपनी है गरिमा इंफ्रास्ट्रक्चर एंड एलाइड। इस कंपनी के मालिक का नाम है बालकिशन कुशवाह। बालकिशन मध्य प्रदेश के गृह राज्य मंत्री नारायण सिंह कुशवाह के दामाद हैं यानी इस घोटालेबाज कंपनी के कर्ताधर्ताओं के तार बीजेपी सरकार से जुड़े हैं। बाल किशन की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने बाकायदा इनाम घोषित किया है। आईबीएन7 ने जब मंत्रीजी से उनके दामाद के बारे में जानने की कोशिश की तो उन्होंने बात करने से मना कर दिया। गृह राज्यमंत्री के दामाद की पुलिस कितनी मुस्तैदी से तलाश कर रही होगी, ये जनता समझ सकती है।

जालसाजी की दूसरी कंपनी के एम जे चिट फंड कंपनी का मालिक संतोषी लाल राठौर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के एक कार्यक्रम में उनका दांया हाथ बना दिखता है। एक अन्य कार्यक्रम में उसके एक तरफ फिल्म स्टार जैकी श्राफ बैठते हैं तो दूसरी तरफ सूबे के मंत्री नरोत्तम मिश्रा। राठौर की धमक ऐसी कि उसने अपने नाम से एक फैंस क्लब बनाया था इस क्लब के संरक्षक मंत्री नोरत्तम मिश्रा थे। तस्वीरें अगर झूठ नहीं बोलती हैं तो इस कंपनी के मालिक की पैठ सूबे की सरकार में गहरी है। लेकिन अब नरोत्तम मिश्रा का दावा है कि इस तरह के लोगों को कोई संरक्षण नहीं है। जो भी गलत काम करेगा उसे बख्शा नहीं जाएगा। उन्हें तो राठौर समाज के लोगों ने सार्वजनिक कार्यक्रम में बुलाया था।

इस बीच पोल खुलने के बाद दस चिटफंड कंपनियों के कर्ताधर्ताओं ने जमानत की अर्जी दी लेकिन उनकी अर्जी को ग्वालियर जिला अदालत ने खारिज कर दिया। वहीं PACL के एजेंट ने जबलपुर में ट्रेन से कटकर जान दे दी। ग्वालियर में कंपनी के खिलाफ हुई कार्रवाई के बाद एजेंट राकेश कुशवाहा तनाव में था। परिवारवालों के मुताबिक निवेशकों के पैसे लौटाने को लेकर राकेश की चिंता बढ़ गई थी।

First published: July 4, 2011
facebook Twitter google skype whatsapp