खुद भी भ्रष्टाचार में शामिल हैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह: संघ

वार्ता

Updated: August 4, 2012, 11:58 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने कहा है कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की नाकामियों की फेहरिश्त लम्बी होती जा रही है और प्रधानमंत्री अपनी असफलताओं का जश्न मनाने में मशगूल हैं।

देश में बिजली गुल होने और वित्त मंत्री के रूप में पी. चिदम्बरम की नियुक्ति पर लिखे गए संपादकीय में संघ के मुखपत्र ऑर्गेनाइजर ने कहा कि इंतहा यह है कि देश में बदइंतजामी, भ्रष्टाचार और कुप्रबंध के दोषी नेताओं को दंडित करने का कोई जरिया नहीं रह गया है। संघ के अनुसार 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले में संदेह के घेरे में आए चिदम्बरम को वित्त मंत्री बनाने जाने से यह सच्चाई सामने आ गई है कि प्रधानमंत्री स्वयं भ्रष्टाचार में शामिल हैं।

खुद भी भ्रष्टाचार में शामिल हैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह: संघ
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने कहा है कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की नाकामियों की फेहरिश्त लम्बी होती जा रही है और प्रधानमंत्री अपनी असफलताओं का जश्न मनाने में मशगूल हैं।

मुखपत्र का मानना है कि भ्रष्टाचार केवल व्यक्तिगत लाभ प्राप्त करना ही नहीं होता सार्वजनिक जीवन में कोई भी ऐसा कार्य जिससे देश को आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक एवं नैतिक रूप को नुकसान पहुंचे, भ्रष्टाचार के दायरे में आता है। इस दृष्टि से डॉ. सिंह की असफलताओं की फेहरिश्त लम्बी होती जा रही है तथा इसमें चिदम्बरम और नए गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे का प्रकरण भी शामिल हो गया है।

संघ के अनुसार ऊर्जा मंत्री के रूप में शिंदे का कार्यकाल असफल रहा है लेकिन राजनीतिक के हथकंडों का प्रयोग कर वह ऊंची कुर्सियां हासिल करने में सफल रहे।

First published: August 4, 2012
facebook Twitter google skype whatsapp