‘मेरे मंत्री रहते नहीं बंटा कोई कोल ब्लॉक, सारे आरोप झूठे’

News18India

Updated: September 11, 2012, 12:15 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

नई दिल्ली। कोल ब्लॉक आवंटन पर अपने ऊपर लग रहे बंदरबांट के आरोपों पर सफाई देने के लिए कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल मीडिया के सामने आए। जायसवाल ने कहा कि बीजेपी झूठ का कारोबार कर उनपर अनर्गल आरोप लगा रही है। उनके मंत्री रहते कोई कोल ब्लॉक आवंटित नहीं हुआ। ऐसे में उनके किसी कंपनी को फेवर करने का सवाल ही नहीं उठता। जहां तक उनके गृह राज्य मंत्री रहने के दौरान हुए आवंटनों का सवाल है तो मैं चुनौती देता हूं कि कोई मेरा लिखा एक पत्र, सिफारिशी नोट या सबूत लेकर आए जो बताता हो कि मैंने किसी कंपनी के लिए सिफारिश की है।

जायसवाल ने कहा कि आज बीजेपी प्रवक्ता ने फिर से झूठ का कारोबार शुरू कर दिया। उन्होंने ये बयान दिया कि जायसवाल के कोल मंत्री बनने के बाद ही कोल ब्लॉक आवंटन शुरू हो गया। मैं दावा करना चाहता हूं और चुनौती भी देना चाहता हूं कि 195 कोल ब्लॉक आवंटित किए गए 1993 से लेकर यूपीए वन के कार्यकाल तक। अनेकों बार संसद में सवालों के जवाब में इसका उल्लेख भी किया जा चुका है।

‘मेरे मंत्री रहते नहीं बंटा कोई कोल ब्लॉक, सारे आरोप झूठे’
कोल ब्लॉक आवंटन पर अपने ऊपर लग रहे बंदरबांट के आरोपों पर सफाई देने के लिए कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल मीडिया के सामने आए। जायसवाल ने कहा कि बीजेपी झूठ का कारोबार कर उनपर अनर्गल आरोप लगा रही है।

जायसवाल ने कहा कि 196वां कोल ब्लॉक आज तक आवंटित नहीं हुआ है। तो फिर मेरे मंत्री बनने के बाद आवंटन का सवाल ही कहां पैदा होता है। मैं चुनौती देता हूं कि कल मैं अपने कार्यालय में रहूंगा। कष्ट करें और हमारे पास आएं। हमसे जानकारी लें। या तो हमें देश से माफी मांगनी पड़ेगी या उनको माफी मांगनी पड़ेगी।

जायसवाल ने कहा कि किसी मनोज कुमार जायसवाल से मेरी रिश्तेदारी जोड़ी जा रही है जिन्हें कई कोल ब्लॉक आवंटित हुए हैं। जिस समय मैं गृह राज्य मंत्री था, उस समय मैंने किसी तरह की कोई सिफारिश की हो तो वो सामने लाएं। मेरे कोयला मंत्री बनने के बाद कोई कोल ब्लॉक आवंटन हुआ ही नहीं है इसलिए बीजेपी गलत आरोप लगाकर भ्रम न फैलाए। जायसवाल ने कहा कि देश का हर जायसवाल मेरा रिश्तेदार है लेकिन मैंने किसी को फेवर नहीं किया।

First published: September 11, 2012
facebook Twitter google skype whatsapp