यूपीए सरकार को उखाड़ फेकेंगे हम थर्ड रेट लोगः केजरीवाल

News18India
Updated: October 14, 2012, 4:47 AM IST
News18India
Updated: October 14, 2012, 4:47 AM IST
नई दिल्ली। सलमान खुर्शीद के बयान पर हमलावर रुख अपनाते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि हम भले ही थर्ड रेट लोग हों, हम भले बुरे हों लेकिन आखिर हमें ऐसा किसने बनाया है? यही सरकार है जिसने ऐसा किया है। यह थर्ड रेट लोग अब निडर हैं।

वहीं खुर्शीद के बचाव में सरकार की तरफ से आगे आए नारायणामी पर केजरीवाल ने कहा कि यह हमारे आरोप नहीं हैं। जांच पूरी हो चुकी है और 12 जून को यूपी के सीएम अखिलेश यादव अपनी रिपोर्ट भी सौंप चुके हैं। सलमान खुर्शीद ने अगर इस्तीफा नहीं दिया तो लोग उन्हें ऐसा करने के लिए मजबूर कर देंगे।

केंद्रीय कानून मंत्री सलमान खुर्शीद अब से कुछ देर पहले लंदन से दिल्ली पहुंच गए हैं। इस बीच, एयरपोर्ट पर अरविंद केजरीवाल के समर्थकों ने खुर्शीद के खिलाफ नारेबाजी की और उनको काले झंडे दिखाए गए। प्रदर्शनकारियों में कई विकलांग भी शामिल थे। ये लोग काले झंडे और तिरंगे के साथ एयरपोर्ट के टर्मिनल 3 के बाहर पहले से जमा थे और जैसे ही सलमान खुर्शीद एयरपोर्ट से बाहर उनके खिलाफ लोगों ने हंगामा शुरु कर दिया। फिलहाल सलमान खुर्शीद अपने घर पहुंच गए हैं और उनके घर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

खुर्शीद के घर के बाहर डटे आईएसी कार्यकर्ताओं को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया है। एयरपोर्ट के बाहर पत्रकारों द्वारा इस्तीफे के सवाल पर खुर्शीद ने स्टिंग करने वाले निजी चैनल के मालिक और केजरीवाल से इस्तीफा देने को कहा। वहीं, इस बीच इंडिया अंगेस्ट करप्शन (आईएसी) पार्लियामेंट स्ट्रीट से कनॉट प्लेस तक रैली करेगी।

दूसरी तरफ, अपने मंत्री के बचाव में सरकार पूरी तरह उतर आई है। नारायणसामी ने कहा है कि किसी पर आरोप लगाना केजरीवाल के लिए फैशन सा बन गया है। नारायणसामी ने केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें लोकतंत्र का अर्थ ही नहीं पता, वह तो सिर्फ पब्लिसिटी के भूखे हैं। देश में सभी को निजी बिजनेस करने का अधिकार हैं और कहीं पर किसी भी तरह के सरकारी समर्थन के सबूत नहीं मिले हैं।

वतन लौटे खुर्शीद अपनी सफाई में आज दोपहर तीन बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सफाई दे सकते हैं। खुर्शीद की सफाई के बाद इस मामले में नया मोड़ आ सकता है। इससे पहले, केजरीवाल साफ कर चुके हैं कि उनके आरोप कागजातों के प्रमाण के आधार पर हैं।
First published: October 14, 2012
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर