केंद्र का कामकाज सबसे अधिक निराशाजनक: आडवाणी

वार्ता
Updated: October 30, 2012, 4:24 PM IST
केंद्र का कामकाज सबसे अधिक निराशाजनक: आडवाणी
आडवाणी ने मौजूदा केंद्र सरकार के कामकाज पर असंतोष जताते हुए कहा कि इस सरकार से जितनी निराशा हुई ऐसी निराशा पहले कभी नहीं हुई।
वार्ता
Updated: October 30, 2012, 4:24 PM IST
इंदौर। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) संसदीय दल के अध्यक्ष लालकृष्ण आडवाणी ने मौजूदा केंद्र सरकार के कामकाज पर असंतोष जताते हुए कहा कि इस सरकार से जितनी निराशा हुई ऐसी निराशा पहले कभी नहीं हुई।

आडवाणी ने आज मध्य प्रदेश के वाणिज्यिक राजधानी इंदौर में राज्य सरकार द्वारा आयोजित (ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट) के तीसरे और आखिरी दिन के समापन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि मैंने देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू से लेकर अब तक के सभी प्रधानमंत्रियों और उनके कामकाज को देखा है। लेकिन जितनी निराशा इस सरकार से हुई उतनी पहले कभी नहीं हुई। उन्होंने कहा कि घोटाले पहले की सरकारों में भी हुए हैं। लेकिन इस तरह की निराशा कभी नहीं देखी।

इन्वेस्टर्स समिट के समापन अवसर पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, वाणिज्य उद्योग मंत्री कैलाश विजयवर्गीय, देश के प्रमुख उद्यमी कुमारमंगलम बिड़ला, सुब्रत राय सहारा, सुभाष चंद्रा सहित जाने-जाने उद्यमी और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष प्रभात झा समेत अन्य कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे।

समिट को संबोधित करते हुए आडवाणी ने हाल में केंद्रीय मंत्रिमंडल में हुए फेरबदल पर अप्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा कि मंत्रिमंडल में अच्छी और ईमानदार छवि के मंत्रियों की पदावनति की गई है और जिन पर आरोप लगे हैं। जिन पर उंगलियां उठी हैं, उनको प्रोन्नति दी गई है। घोटालों पर कार्रवाई करने के बजाय सरकार कामकाज का ऐसी तरीका अपना रही है जिससे घोर निराशा होती है।

इन्वेस्टर्स समिट के तीसरे दिन के सत्र को प्रारंभ होने के बाद बताया गया कि इस दौरान चार लाख रिपीट चार लाख करोड़ रुपये के निवेश के लगभग 900 प्रस्ताव आए। जिससे 12 लाख लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है।
First published: October 30, 2012
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर