अब यूपीए से समर्थन वापसी का कोई मतलब नहीं: माया

News18India
Updated: December 21, 2012, 11:23 AM IST
News18India
Updated: December 21, 2012, 11:23 AM IST
नई दिल्ली। बीएसपी प्रमुख मायावती ने प्रमोशन में आरक्षण बिल को लेकर केन्द्र सरकार पर जमकर बरसीं, लेकिन समर्थन जारी रखने की बात भी कहीं। आईबीएन7 के मैनेजिंग एडिटर आशुतोष से खास बातचीत में मायावती ने कहा कि केन्द्र सरकार गुमराह कर रही है, वो दलितों का हित नहीं चाहती है।
मायावती के मुताबिक बाबा अम्बेडकर ने दलितों की स्थिति को देखते हुए आरक्षण की बात कही थी। फिलहाल धीरे-धीरे ओबीसी की हालत तो सुधर रही है, लेकिन एससी-एसटी और पीछे जा रहे हैं। इसलिए इन्हें आरक्षण जरूरी है। लेकिन केन्द्र सरकार प्रमोशन में आरक्षण नहीं चाहती है, क्योंकि दलितों को लेकर सरकार की मानसिकता सकारात्मक नहीं है। जिस वजह से अभी तक दलितों को अपना हक नहीं मिल पाय़ा है।
बीएसपी प्रमुख ने कहा कि राज्यसभा में तो किसी तरह सरकार पर दबाव बनाकर उन्होंने बिल पास करवा दिया। लेकिन लोकसभा में केंद्र सरकार ने इसका गलत फायदा उठाया है। 19 और 20 दिसंबर को लोकसभा में जो नाटक हुआ उससे साफ हो गया कि सरकार केवल दिखावा कर रही है, वो प्रमोशन में आरक्षण बिल के पक्ष में नहीं है।
केंद्र सरकार को समर्थन के सवाल पर मायावती का मानना है कि उनकी पार्टी की नीति है कि सांप्रदायिक ताकतें मजबूत न हो, इसलिए उन्होंने कई मुद्दों पर सरकार समर्थन किया। उन्होंने प्रमोशन में आरक्षण मुद्दे पर आश्वासन दिया था फिर हमने एफडीआई पर उनका साथ दिया। लेकिन सरकार की मशां साफ नहीं है। हम उनको चेताते रहे वो हमें आश्वासन देते रहे। मायावती का मानना है कि सरकार की आर्थिक नीतियां बेहद गलत है और अब समर्थन वापस लेने से कोई फायदा नहीं होगा। क्योंकि चुनाव में महज एक साल बचा है। जनता सब देख रही है, इनको चुनाव में सबक सिखाएगी।

First published: December 21, 2012
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर