भारत सरकार की कमजोरी हमले की वजह: यशवंत

News18India
Updated: August 6, 2013, 12:57 PM IST
News18India
Updated: August 6, 2013, 12:57 PM IST
नई दिल्ली। नियंत्रण रेखा पर 5 भारतीय जवानों के कत्ल के मुद्दे की गूंज संसद में भी सुनाई दी। रक्षा मंत्री ए के एंटनी ने संसद को बताया कि पाकिस्तान की तरफ से हमला आतंकवादियों ने किया और पाकिस्तानी सेना की वर्दी से लैस लोग उनका साथ दे रहे थे। विपक्ष ने आरोप लगाया कि रक्षा मंत्री ने पाकिस्तान को बचने का रास्ता दे दिया। बीजेपी की ओर से पार्टी नेता यशवंत सिन्हा ने संसद के अंदर और बाहर सरकार पर कड़ा हमला बोला।

सिन्हा ने कहा कि लोकसभा में हम लोगों की मांग के बाद रक्षा मंत्री ने अत्यंत संक्षिप्त बयान रखा। हम लोग आशा कर रहे थे कि वो बताएंगे कि भारत सरकार क्या कर रही है लेकिन ऐसा नहीं हुआ। ये कहते हुए अफसोस है कि चंद वाक्य ही मैंने बोले और संसदीय कार्यमंत्री ने अपने आंध्र के सांसदों को इशारा किया कि आप वेल के पास जाओ। ये समझौता था कि कोई भी इस मुद्दे पर चर्चा के बीच में नहीं बोलेगा और मुलायम सिंह के भाषण के दौरान किसी ने नहीं बोला लेकिन जैसे ही मैं बोला, उन्होंने बाधित किया। हम इसकी निंदा करते हैं।

सिन्हा ने कहा कि अगर ऐसा ही आचरण सत्तारूढ़ पार्टी का रहा तो सत्र खतरे में पड़ सकता है क्योंकि हर एक्शन का रिएक्शन होता है। ये पहली घटना नहीं है जब रूलिंग पार्टी के सदस्यों ने विपक्ष को बोलने से रोका हो। इस लोकसभा में ये अनूठी घटना हो रही है कि रूलिंग पार्टी के सदस्य विपक्षियों को बोलने नहीं दे रहे। सिन्हा ने कहा कि एंबुश हुआ और हमारे रक्षा मंत्री ने यहां बैठे हुए ये पहचान लिया कि वो आतंकवादी थे और ये कह दिया कि पाकिस्तानी आर्मी की वेशभूषा में आतंकी थे। इससे किसे संदेह का लाभ मिलेगा। साफ रूप से पाकिस्तान या पाक सेना का नाम लेने में क्या परेशानी है। हम इस भाषा की निंदा करते हैं।

सिन्हा ने कहा कि सरकार कह रही है कि कड़ा विरोध पाकिस्तान के सामने जताया है लेकिन इसके लिए पाक के डिप्टी कमिश्नर को बुलाया। इतने गंभीर मुद्दे पर सीधे कमिश्नर को क्यों नही बुलाया। हमारे सैनिकों को सिर्फ आदेश देने की जरूरत है कि आप जवाब दो। सैनिक सिर्फ सिर कटवाने के लिए नहीं हैं।

सिन्हा ने कहा कि नवाज शरीफ के प्रधानमंत्री बनने से संतुष्टि हुई थी और उनके दोस्ताना बयानों से उम्मीद दिखी थी लेकिन बीजेपी ने हमेशा से कहा है कि बातचीत और आतंकवाद साथ-साथ नहीं चल सकते। भारत सरकार हमेशा से पाकिस्तानी हरकतों को भूल जाती है। पाकिस्तान हमेशा भारतीयों को मारता है और फिर कहता है कि इसे भूल जाओ और आगे बढ़ो। हम मांग करते हैं कि सितंबर में होने वाली पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से न्यूयॉर्क में बातचीत को रद्द किया जाए।

पूर्व विदेशमंत्री यशवंत सिन्हा ने पाकिस्तान के हमले के लिए सरकार को बुरी तरह घेरा है। उनका कहना है कि पाकिस्तान के बार-बार हमले के लिए कमजोर सरकार जिम्मेदार है। सरकार पाकिस्तान को माकूल जवाब नहीं देती ऐसे में पाकिस्तान की ओर से ऐसी हरकत बार-बार दुहराई जाती है। वाजपेयी के साथ हुए मुशर्रफ के समझौते को भी अगर ये सरकार याद रखती तो ऐसी घटनाएं नहीं होतीं। यशंवत सिन्हा से बात की आईबीएन7 के पॉलिटिकल एडिटर सुकेश रंजन ने।
First published: August 6, 2013
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर