MP रिपोर्ट कार्ड: सचिन पायलट का उम्दा प्रदर्शन

News18India
Updated: March 1, 2015, 1:45 PM IST
News18India
Updated: March 1, 2015, 1:45 PM IST
नई दिल्ली। अब बात हमारे माननीय सांसद की लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आईबीएन 7 ने एक नई पहल की है। जिसका नाम हैं एमपी का रिपोर्ट कार्ड। आईबीएन 7 ने एडीआर यानी एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स के साथ मिलकर तैयार किया है। देश के सांसदों का रिपोर्ट कार्ड हम सांसदों के कामकाज का पूरा लेखाजोखा आपके सामने पेश करेंगे। इस पहल की शुरुआत करते हैं युवा सांसद सचिन पायलट से।

36 साल के सचिन पायलट अजमेर से कांग्रेस के सांसद हैं। राहुल गांधी की युवा टीम के अहम सदस्यों में से एक सचिन पायलट कॉर्पोरेट अफेयर्स मंत्री हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता राजेश पायलट के बेटे सचिन पायलट ने दिल्ली के सेंट स्टीफंस कॉलेज से ग्रेजुएशन किया है और व्हार्टन यूनिवर्सिटी से एमबीए की डिग्री हासिल की है। 2004 में पहला लोकसभा चुनाव जीतने वाले सचिन के नाम सबसे कम उम्र में सांसद बनने का रिकॉर्ड भी था। सचिन पायलट के बारे में उनके संसदीय क्षेत्र की जनता क्या कहती है ये जानने के लिए हमने अजमेर के लोगों के बीच सर्वे कराया। इसी सर्वे के आधार पर बनाया सचिन पायलट का रिपोर्ट कार्ड।

हमारी पहली कसौटी थी कि सांसद तक लोगों का पहुंचना कितना आसान है। इसके जवाब में सचिन पायलट को 10 में से 7.03 नंबर मिले । दूसरी कसौटी थी इलाके की स्वास्थ्य सेवा जिसमें पायलट को 10 में से 7.97 नंबर मिले सबसे अहम सवाल था इलाके की कानून व्यवस्था का। जिसमें इलाके की जनता ने पायलट को काफी अच्छे नंबर दिए।

कानून व्यवस्था के मामले में इन्हें 8.29 अंक मिले। सार्वजनिक परिवहन के मामले में 7.84 सड़कों के मामले में 8.10 और स्कूलों के मामले में सबसे ज्यादा 8.66 अंक मिले। पीने के पानी के मुद्दे पर जनता ने पायलट को 7.47 अंक दिया। सांसद पर भरोसे के मुद्दे पर 7.04 अंक। महिलाओं की सुरक्षा के पैमाने में 8.16 और इलाके में रोजगार पैदा करने के पैमाने पर जनता ने सचिन पायलट को 7.56 अंक दिए।

कई मुद्दों और कसौटियों पर परखने के बाद जनता के जवाबों से ऐसा लगा कि सचिन पायलट ने अपने इलाके में ठीकठाक काम कराया है और जनता के बीच उनकी पैठ काफी गहरी है। जनता के अंकों को जोड़ कर जब हमने सचिन पायलट का फाइनल रिपोर्ट कार्ड बनाया तो उन्हें 10 में 8 नंबर मिले जो बतौर सांसद एक बेहतर प्रदर्शन है।

First published: March 18, 2014
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर