योगी को सीएम बनाने से विपक्ष भड़का, कहा- बीजेपी नफरत की राजनीति कर रही है

News18Hindi
Updated: March 19, 2017, 9:32 AM IST
योगी को सीएम बनाने से विपक्ष भड़का, कहा- बीजेपी नफरत की राजनीति कर रही है
Image Source: PTI
News18Hindi
Updated: March 19, 2017, 9:32 AM IST
यूपी के 21वें सीएम के लिए योगी आदित्यनाथ के नाम की घोषणा होते ही एक तरफ जहां उनके समर्थकों ने जश्न मनाना शुरू कर दिया, वहीं विपक्ष के नेताओं ने इस फैसले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी की कड़ी आलोचना भी की.

कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, तृणमूल कांग्रेस और माकपा जैसे दलों ने सोशल मीडिया और बयान जारी कर योगी को कट्टर हिंदुत्व का चेहरा और ध्रुवीकरण की राजनीति करने वाला बताया है.

कांग्रेस प्रवक्ता संजय झा ने कहा कि यह फैसला 'स्पष्ट' संदेश देता है कि बीजेपी ध्रुवीकरण की राजनीति कर रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने निर्विवादित रूप से स्पष्ट संदेश दे दिया है. एक धुर सांप्रदायिक, हिंदूवादी नेता योगी आदित्यनाथ का चयन कर बीजेपी यूपी में ध्रुवीकरण की राजनीति को हवा दे रही है, जिसके स्पष्ट प्रभाव के तौर पर न सिर्फ उत्तर प्रदेश, बल्कि पूरे देश में कट्टर हिंदूवादी विचारधारा मजबूत होगी.

उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी ने यूपी में किसी भी मुस्लिम को टिकट नहीं दिया इससे भी पूरी बात साफ हो जाती है. कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने भी ट्वीट कर योगी के सीएम बनने पर दुःख जाहिर किया. आप नेता संजय सिंह ने भी योगी के सीएम बनने पर कड़ी प्रतिक्रिया दी और ट्वीट कर कहा कि 'UP में अति पिछड़ा वर्ग का भारी समर्थन लेकर BJP सत्ता में आयी, लेकिन CM के नाम पर ठेंगा दिखा दिया, योगी लाओ, नफ़रत फैलाओ, सबका साथ-सबका विकास.'





उधर तृणमूल कांग्रेस के सांसद सौगत राय ने कहा कि बीजेपी के पास बहुमत है और यह उनका विशेषाधिकार है कि वे किसे अपना मुख्यमंत्री चुनते हैं, लेकिन यह बिल्कुल स्पष्ट है कि बीजेपी उत्तर प्रदेश में कट्टर हिंदुत्व की राजनीति करना चाहती है.

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की नेता वृंदा करात ने भी कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) उत्तर प्रदेश को हिंदुत्व परियोजना का केंद्र बनाना चाहता है. उनके सीएम के चयन से आरएसएस का एजेंडा स्पष्ट होता है, क्योंकि वे उत्तर प्रदेश को हिंदुत्व परियोजना का केंद्र बनाना चाहते हैं.





वृंदा ने कहा कि अब विकास के बड़े-बड़े वादे गायब हो गए हैं और उन्होंने एक ऐसे व्यक्ति को चुना है जिसने नफरत फैलाने वाले भाषणों और सांप्रदायिक हिंसा के रास्ते पर चलकर राजनीति में प्रवेश किया है. एक ऐसे व्यक्ति को जिसके खिलाफ ढेरों आपराधिक मामले चल रहे हैं. ऐसा व्यक्ति मुख्यमंत्री बनने जा रहा है, यह उत्तर प्रदेश के लिए दुखद दिन है और पूरे देश के लिए दुखद है.
First published: March 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर