किसानों की कर्ज माफी पर पंजाब विधानसभा में ड्रामा, सीएम पर लगे आरोप

मोहित मल्होत्रा | News18Hindi
Updated: June 20, 2017, 9:30 AM IST
किसानों की कर्ज माफी पर पंजाब विधानसभा में ड्रामा, सीएम पर लगे आरोप
तस्वीर: GETTY IMAGES
मोहित मल्होत्रा | News18Hindi
Updated: June 20, 2017, 9:30 AM IST
किसानों की कर्जमाफी के मुद्दे पर पंजाब विधानसभा में सोमवार को काफी हाई लेवल ड्रामा हुआ. पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण का जवाब देते हुए पहले बड़ी चतुराई के साथ ये कहा कि पंजाब सरकार 5 एकड़ तक की खेती की जमीन होने वाले किसानों के फसल के लिए सारा कर्जा माफ करने जा रही है. उससे थोड़ी देर बाद जब एक प्रेस रिलीज सीएम ऑफिस की तरफ से जारी की गई तो उसमें साफ तौर पर लिखा गया कि कर्ज सिर्फ दो लाख रुपए तक का होगा.

रिलीज में कुछ और लिखा
रिलीज में साफ लिखा है कि 5 एकड़ तक की जमीन वाले किसानों का सिर्फ दो लाख रुपये का फसल कर्जा और छोटे किसानों का भी दो लाख रुपये तक का ही फसल कर्जा माफ किया जा रहा है. जबकि सदन में सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहीं भी ये नहीं कहा कि 5 एकड़ की जमीन तक वाले किसानों का सिर्फ 2 लाख रुपये ही फसल कर्ज माफ किया जाएगा. उन्होंने कहा था कि 5 एकड़ तक की खेती की जमीन होने वाले किसानों का पूरा फसल कर्जा माफ किया जाएगा.

पेपर पर लिखी स्पीच पढ़ रहे थे सीएम

एक और बात ये भी हैरान करने वाली है कि सीएम अपनी पेपर पर लिखी स्पीच देखकर पढ़ रहे थे. लेकिन उनकी स्पीच की कॉपी भी मीडिया गैलरी में बैठे पत्रकारों को नहीं दी गई. जब किसानों के कर्ज माफी के मुद्दे पर सीएम ने सदन में विपक्षी पार्टी आम आदमी पार्टी की भी वाहवाही लूट ली तो उसके बाद एक प्रेस नोट जारी कर दिया गया.

कंफ्यूजन में रहे लोग
कंफ्यूजन के हालात यहां तक थे कि कांग्रेस के विधायकों ने सदन से बाहर आकर ये दावा किया कि 5 एकड़ तक की जमीन पर खेती करने वाले किसानों का पूरा फसल कर्ज माफ करने का दावा उनके सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सदन के अंदर किया है. लेकिन CM ऑफिस की तरफ से जारी की गई रिलीज के बारे में उनको ना तो जानकारी थी और वो इस बात से इंकार भी करते रहे.

किसानों की फसल के लिये कर्ज माफी के मुद्दे पर कनफ्यूजन आम आदमी पार्टी में भी दिखाई दिया. जिस वक्त सीएम विधानसभा के सदन में किसानों की कर्ज माफी को लेकर ऐलान कर रहे थे तो उस वक्त उन के सीनियर लीडर एच एस फुल्का किसी काम से सदन से बाहर गए थे. उनकी गैरमौजूदगी में आम आदमी पार्टी ने ना सिर्फ सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के ऐलान को काफी बड़ा मानते हुए जल्दबाजी में कांग्रेस विधायकों की तरफ से लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव का सर्वसम्मति से समर्थन कर दिया. आम आदमी पार्टी के विधायक कंवर संधू ने अपनी सीट से उठ कर कैप्टन अमरिंदर सिंह का शुक्रिया भी अदा कर दिया.

आप ने बताया धोखा
उसके तुरंत बाद आप नेता विपक्ष एच एस फुल्का अपनी पार्टी से उलट सीएम के ऐलान को अधूरा और किसानों के साथ धोखा करार देने लगे. उन्होंने इस बात पर भी हैरानी जताई की सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सदन के अंदर तो 5 एकड़ तक की खेती की जमीन होने वाले किसानों का पूरा फसल कर्ज माफ करने का दावा किया. लेकिन अपने प्रेस नोट में और प्रेस कांफ्रेंस में कैप्टन अमरिंदर सिंह सिर्फ दो लाख रुपए तक के कर्ज माफी की बात करते रहे.

हालांकि, बाद में पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने पूरी डिटेल्स मंगलवार को आने वाले बजट में देने की बात कही. वहीं, खुद कैप्टन अमरिन्द्र सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस में साफ कर दिया कि 5 एकड़ वाले किसानों का सिर्फ 2 लाख रुपये तक का ही क्रॉप लोन माफ किया गया है.

माली हालत को लेकर जारी हुआ श्वेत पत्र
वहीं इससे पहले सोमवार को पंजाब विधानसभा में कांग्रेस सरकार ने सूबे की माली हालत को लेकर एक श्वेत पत्र जारी किया. पिछले 10 साल में अकाली-बीजेपी सरकार की तरफ से हुए सरकारी महकमे के आर्थिक नुकसान का हवाला दिया. इस श्वेतपत्र के जवाब में अकाली दल ने भी एक श्वेतपत्र जारी कर दिया और अपने श्वेतपत्र को नाम दिया जैनुअन श्वेत पत्र. अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल ने दावा किया कि किसानों को मंगलवार को आने वाले पंजाब सरकार के बजट में किसानों को कोई भी राहत नहीं मिलने वाली है.

किसानों का कर्ज माफी वो वादा है जिसे लेकर कांग्रेस ने विधानसभा प्रचार के दौरान किसानों को लिखित वादा किया था. अब किसानों के लिए ये ऐलान भी कर दिया है. लेकिन इस ऐलान की कई ऐसी बातें हैं जोकि छिपी हुई हैं और उनके जवाब अब तक पंजाब सरकार की तरफ से नहीं दिए गए हैं.
First published: June 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर