राजस्थान: नहर की मांग को लेकर किसानों का प्रदर्शन, दी आंदोलन की धमकी

Prem | ETV Rajasthan
Updated: May 19, 2017, 9:58 PM IST
राजस्थान: नहर की मांग को लेकर किसानों का प्रदर्शन, दी आंदोलन की धमकी
नहर के लिए आंदोलन करते किसान.
Prem | ETV Rajasthan
Updated: May 19, 2017, 9:58 PM IST
राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले के सूरतगढ़ में नहर की मांग को लेकर जारी किसानों के आंदोलन के सामने पुलिस की सभी तैयारियां धरी की धरी रह गईं. किसानों ने आज थर्मल पावर प्लांट ठप करने की चेतावनी दी थी. सुबह में जब किसानों ने थर्मल की ओर कूच किया तो पुलिस प्रशासन के सुरक्षा बंदोबस्त धरे रह गए और उग्र किसानों ने धारा 144 को तार-तार कर दिया.

आंदोलनकारियों के उग्र रूप को देखते हुए प्रशासन ने उन्हें वहीं सभा करने की इजाजत दे दी. साथ ही वार्ता का बुलावा भी दिया. इसके बाद थर्मल पावर प्लांट के इरेक्टस हॉस्टल में हुई वार्ता बैठक में किसान नेताओं ने कमेटी की रिपोर्ट को सार्वजनिक करने की मांग की.

इस पर अधिकारियों ने कहा कि कमेटी की रिपोर्ट सरकार को सौंप दी गई है लेकिन उसका अध्ययन किया जा रहा है. इसके बाद ही कोई स्थिति स्पष्ट हो पाएगी.

वार्ता में नेताओं ने जब सिंचाई विभाग के एडिशनल चीफ विनोद मित्तल से सवाल जवाब किये तो उन्होंने

अप्रत्यक्ष रूप से पानी न होने की बात कही. इसके बाद माकपा नेता श्योपत मेघवाल ने जब श्रीगंगानगर में हुए आंदोलन का हवाला दिया और आंदोलन के बाद पानी की मात्रा बढ़ाने की बात बताई तो सिंचाई विभाग के एडिशनल चीफ ने बचकाना बयान देते हुए कहा कि आंदोलन के उग्र रूप से ही अगर आप को पानी मिलता है तो वह भी कर लीजिए.

कलेक्टर ने संभाली स्थिति

इससे वार्ता में पहुंचे नेताओं में रोष फैल गया और एडिशनल चीफ के इस तरह के बयान देने से माहौल तनावपूर्ण हो गया. किसान नेताओं ने आईजी और कमिश्नर के समक्ष रोष जताते हुए हंगामा किया कि अधिकारी खुद आंदोलन को उकसाना चाह रहे हैं.

इसके बाद स्थिति संभालते हुए जिला कलेक्टर ज्ञानाराम व संभागीय आयुक्त सुवालाल ने किसान नेताओं से समझाकर उन्हें शांत करवाया. इससे नाराज नेता बैठक से बाहर आ गए और घोषणा कर डाली कि 29 मई को फिर थर्मल ठप व महापड़ाव डाला जाएगा. साथ ही कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर मांग की, कि सिंचाई सचिव से उनकी वार्ता करवाई जाए तथा कमेटी की रिपोर्ट उन्हें उपलब्ध करवाई जाए.
First published: May 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर