राजस्थान: सामान्य वर्ग के छात्रों को मिलेगी आर्थिक सहायता, दिशा-निर्देश जारी

Sudhir sharma | ETV Rajasthan
Updated: May 18, 2017, 5:35 PM IST
राजस्थान: सामान्य वर्ग के छात्रों को मिलेगी आर्थिक सहायता, दिशा-निर्देश जारी
राजस्थान का सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय.
Sudhir sharma | ETV Rajasthan
Updated: May 18, 2017, 5:35 PM IST
राजस्थान में बजट भाषण 2017-18 में सामान्य श्रेणी के विद्यार्थियों के लिए की गई घोषणाओं को मूर्त रूप देने का काम शुरू हो गया है. सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग ने इस बारे में दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं.

इसके लिए राज्य सरकार ने एक ही शर्त रखी है कि मेधावी विद्यार्थियों के परिवार की आय ढाई लाख रुपये से ज्यादा नहीं होनी चाहिए .

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सामान्य वर्ग के आर्थिक पिछड़ों को आर्थिक सहायता देने की घोषणा की थी.

मुख्यमंत्री ने बजट भाषण में आईआईटी, आईआईएम, एम्स, एनएलयू, आईआईएससी में प्रवेश पाने वाले सामान्य वर्ग के मेधावी अभ्यर्थियों को एक मुश्त सहायता की घोषणा की थी.

इसमें इन संस्थानों में प्रवेश पाने वाले प्रथम सौ विद्यार्थियों को 25 हजार रुपये एक मुश्त और प्रशस्ति पत्र देने की बात थी.

इसके अलावा राजस्थान प्रशासनिक सेवा में चयनित होने वाले प्रथम सौ प्रतिभागियों को 30 हजार रुपये एक मुश्त देने को कहा गया था. अखिल भारतीय सेवा में चयनित राजस्थान के शीर्ष 50 प्रतिभागियों को 50 हजार रुपए की आर्थिक सहयता मिलनी थी.

राज्य सरकार की इन तीनों योजनाओं के नियम लगभग एक जैसे बनाए है. योजना का फायदा उन्हें मिल सकेगा जो सामान्य वर्ग के हैं लेकिन आर्थिक रूप से पिछडे हैं. ऐसे विद्यार्थियों के परिवार की आय सब मिलाकर ढाई लाख से ज्यादा की नहीं होनी चाहिए.
First published: May 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर